Yuva Haryana
IAS Success Story : कड़ी मेहनत से प्रेरणा सिंह बनीं UPSC टॉपर, बनी IAS, पढ़िए उनकी सफलता की कहानी
 

आज आपको साल 2017 में यूपीएससी परीक्षा पास कर आईएएस अफसर बनने वाली प्रेरणा सिंह की कहानी बताएंगे, जिन्होंने स्मार्ट स्टडी और बेहतर रणनीति अपनाकर इस परीक्षा को पास कर लिया। यूपीएससी को लेकर उनका नजरिया अन्य कैंडिडेट्स की तुलना में काफी अलग है। उनका मानना है कि इस परीक्षा को स्मार्ट स्टडी और ज्यादा से ज्यादा रिवीजन करके पास किया जा सकता है। आइए उनकी यूपीएससी की रणनीति के बारे में जानते हैं।

IAS Prerna Singh Success Story

प्रेरणा सिंह आज आईएएस है। उन्होंने बेहद कम समय में यूपीएससी की तैयारी करके सफलता हासिल की है। उनकी सफलता में उनकी रणनीति का महत्वपूर्ण योगदान रहा है। इसके लिए प्रेरणा सिंह ने बेहतर रणनीति के साथ यूपीएससी की तैयारी की और बेहद कम समय में अपना लक्ष्य हासिल कर लिया। आज हम जानेंगे उन्होंने किस रणनीति के साथ यूपीएससी की तैयारी की और सफलता पाई। जिससे अगर अन्य दूसरे अभ्यर्थी भी इस रणनीति को अपनाएंगे तो यह उनके लिए काफी मददगार हो सकती है।

Prerna Singh is IAS today. She has achieved success by preparing for UPSC in a very short time. Her strategy has been instrumental in her success. For this, Prerna Singh prepared for UPSC with a better strategy and achieved her goal in a very short time. Today we will know with which strategy she prepared for UPSC and got success. So that if other candidates also adopt this strategy, then it can be very helpful for them.

IAS Prerna Singh Success Story

एनसीईआरटी किताबों से करे शुरुआत

आईएएस प्रेरणा सिंह का मानना है कि यूपीएससी में सफलता प्राप्त करने के लिए सबसे पहले आपको एनसीईआरटी किताब को पढ़ना चाहिए। एनसीईआरटी किताबों को पढ़कर आप अपना बेस मजबूत कर सकते हैं। एक बार जब आपका बेस मजबूत हो जाए तब आप स्टैंडर्ड बुक्स का इस्तेमाल करके अपनी तैयारी कर सकते हैं।

IAS Prerna Singh believes that to get success in UPSC, first of all you should read NCERT book. You can strengthen your base by reading NCERT books. Once you have a strong base, you can do your preparation using standard books.

प्रेरणा सिंह कहती हैं कि इसके लिए आप एनसीईआरटी की 6 से 12 क्लास तक की किताबें ले सकते हैं। यह यूपीएससी की तैयारी में बहुत मददगार होती है। प्रेरणा सिंह का कहना है कि अगर आप यूपीएससी की तैयारी करने के लिए एनसीईआरटी को आधार बनाकर अपना बेस मजबूत करते हैं तब आप की शुरुआत जबरदस्त तरीके से होती है और आगे की तैयारी करना आसान हो जाता है।

Prerna Singh says that for this you can take NCERT books from class 6 to 12. It is very helpful in UPSC preparation. Prerna Singh says that if you strengthen your base by making NCERT the basis to prepare for UPSC, then you start in a tremendous way and it becomes easy to prepare further.

IAS Prerna Singh Success Story

स्मार्ट स्टडी और रिवीजन है जरूरी

प्रेरणा सिंह का कहना है कि यूपीएससी परीक्षा में सफलता हासिल करने के लिए स्मार्ट स्टडी पर ध्यान देना बेहद जरूरी है। इससे समय की बचत होती है और इस बचे हुए समय का इस्तेमाल ज्यादा से ज्यादा रिवीजन करने में किया जा सकता है।

Prerna Singh says that it is very important to focus on smart study to get success in UPSC exam. This saves time and this remaining time can be used for revision as much as possible.

उनका मानना है कि कड़ी मेहनत से भी ज्यादा रिवीजन महत्वपूर्ण है। क्योंकि यूपीएससी परीक्षा में सफलता दिलाने में रिवीजन का महत्वपूर्ण रोल होता है। उनका मानना है कि हर कैंडिडेट को सिलेबस को अच्छी तरह से कंप्लीट करने के बाद ज्यादा से ज्यादा बार रिवीजन करने पर ध्यान देना चाहिए।

She believes that revision is more important than hard work. Because revision plays an important role in getting success in UPSC exam. She believes that every candidate should focus on revising as many times as possible after completing the syllabus thoroughly.

IAS Prerna Singh Success Story

दूसरे अभ्यर्थियों को सलाह

प्रेरणा सिंह का मानना है कि यूपीएससी तैयारी करने वाले सभी कैंडिडेट को अपनी तैयारी करने के लिए समय-समय पर खुद का एनालसिस करना चाहिए। इससे उन्हें अपनी एक्चुअल कंडीशन के बारे में पता चल जाता है। फिर जो भी कमियां रहती है उन्हें समय रहते सुधारा जा सकता है।

Prerna Singh believes that all the aspirants preparing for UPSC should do their own analysis from time to time for their preparation. This lets them know about their actual condition. Then whatever shortcomings remain, they can be rectified in time.

प्रेरणा सिंह का मानना है कि अगर पूरे डेडिकेशन के साथ यूपीएससी की तैयारी की जाती है तब आप परीक्षा में बेहतर परफॉर्म करते हैं। इसके अलावा यूपीएससी तैयारी करने के दौरान सकारात्मक रवैया सफलता दिलाने में महत्वपूर्ण रोल अदा करता है।