\u0917\u0941\u0930\u0941\u0917\u094D\u0930\u093E\u092E \u092E\u0947\u0902 \u092E\u0947\u091F\u094D\u0930\u094B \u0915\u0940 \u091A\u092A\u0947\u091F \u092E\u0947\u0902 \u0906\u0928\u0947 \u0938\u0947 \u0926\u0930\u094D\u0926\u0928\u093E\u0915 \u092E\u094C\u0924, \u0928\u0939\u0940\u0902 \u0925\u092E \u0930\u0939\u093E \u0939\u093E\u0926\u0938\u094B\u0902 \u0915\u093E \u0938\u093F\u0932\u0938\u093F\u0932\u093E

“The world’s most advanced Real Content in Hindi”

  1. Home
  2. दुनिया

गुरुग्राम में मेट्रो की चपेट में आने से दर्दनाक मौत, नहीं थम रहा हादसों का सिलसिला

Manu Mehta, Yuva Haryana Gurugram, 26 May, 2018 मेट्रो के हादसों में मरने वाले लोगों की मौतों का सिलसिला लगातार बढ़ता ही जा रहा है। अब एक दर्दनाक हादसा साइबर सिटी के Huda सिटी सेंटर मेट्रो स्टेशन से सामने आया है। जहां मेट्रो की चपेट में आने से एक आदमी...


गुरुग्राम में मेट्रो की चपेट में आने से दर्दनाक मौत, नहीं थम रहा हादसों का सिलसिला

Manu Mehta, Yuva Haryana

Gurugram, 26 May, 2018​​

मेट्रो के हादसों में मरने वाले लोगों की मौतों का सिलसिला लगातार बढ़ता ही जा रहा है। अब एक दर्दनाक हादसा साइबर सिटी के Huda सिटी सेंटर मेट्रो स्टेशन से सामने आया है। जहां मेट्रो की चपेट में आने से एक आदमी की मौत हो गई।

घटना दोपहर करीब 1 से देढ के बीच की बताई जा रही है। आसपास खड़े लोगों ने बताया कि घटना इतनी जल्दी हुई कि उन्हें कुछ समझ ही नहीं आया और जब तक वे कुछ सोच- समझ पाते, तब तक उसकी मौत हो चुकी थी।

बताया जा रहा है कि मृतक 38 वर्षीय था और वो यूपी का रहने वाला था। घटना के तुरंत बाद ही पुलिस ने मौके पर पहुंचकर शव को कब्जे में ले लिया और मामले की तफ्तीश में जुट गई।

वही इस मामले में गुरुग्राम पुलिस प्रवक्ता रविंदर कुमार की माने तो युवक की पहचान कानपुर (यूपी) के तौर पर हुई है।  मृतक भूरा यहां तक कैसे पहुंचा, उसने कहां कि टिकट ली थी और उसे कहा जाना था, इन सभी बातों के बारे में अभी पता लगया जा रहा है।

पुलिस यह जानने की भी कोशिश कर रही है कि यह महज एक हादसा था या मृतक युवक ने ट्रेन के आगे कूद कर जान दी है। पुलिस का कहना है कि वह मेट्रो स्टेशन के सीसीटीवी कैमरा की फुटेज खंगालने में जुट गई है और जल्द ही मामले का खुलासा भी कर दिया जाएगा।

लेकिन बता दें कि मेट्रो के आगे इस तरह के हादसों की संख्या बढ़ने से सुरक्षित मेट्रो के सफर पर जरूर सवालिया निशान खड़े होने शुरू हो गए हैं।