\u0905\u092F\u094B\u0927\u094D\u092F\u093E \u092E\u0947\u0902 \u0936\u094D\u0930\u0940\u0930\u093E\u092E \u092E\u0902\u0926\u093F\u0930 \u0915\u0947 \u0936\u093F\u0932\u093E\u0928\u094D\u092F\u093E\u0938 \u0915\u0947 \u0932\u093F\u090F \u0939\u0930\u093F\u092F\u093E\u0923\u093E \u0928\u0947 \u092D\u0947\u091C\u0940 \u0938\u0930\u0938\u094D\u0935\u0924\u0940 \u0928\u0926\u0940 \u0915\u093E \u091C\u0932 \u0914\u0930 \u092E\u093F\u091F\u094D\u091F\u0940

“The world’s most advanced Real Content in Hindi”

  1. Home
  2. सोशल-वायरल

अयोध्या में श्रीराम मंदिर के शिलान्यास के लिए हरियाणा ने भेजी सरस्वती नदी का जल और मिट्टी

Yuva Haryana News, Chandigarh, 04 August 2020 हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि अयोध्या में बनने वाले श्रीराम मंदिर के शिलान्यास के लिए हरियाणा से सरस्वती नदी का जल और मिट्टी भेजी गई है। हरियाणा सरकार ने स्वामी ज्ञानानंद जी के माध्यम से यह मिट्टी एवं जल भिजवाया...


अयोध्या में श्रीराम मंदिर के शिलान्यास के लिए हरियाणा ने भेजी सरस्वती नदी का जल और मिट्टी

Yuva Haryana News, Chandigarh, 04 August 2020

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि अयोध्या में बनने वाले श्रीराम मंदिर के शिलान्यास के लिए हरियाणा से सरस्वती नदी का जल और मिट्टी भेजी गई है। हरियाणा सरकार ने स्वामी ज्ञानानंद जी के माध्यम से यह मिट्टी एवं जल भिजवाया है। इसका प्रयोग श्रीराम के मंदिर शिलान्यास में होगा।

यह भी पढ़ें:- राम मंदिर में भूमि पूजन कार्यक्रम के लिये दुल्हन की तरह सजी भगवान राम की नगरी ‘अयोध्या’

पंचकूला में आयोजित एक कार्यक्रम के बाद मुख्यमंत्री मनोहर लाल मीडिया कर्मियों से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा कि वर्षों पुरानी समस्या का हल कोर्ट के माध्यम से निकला और अब यह सर्वमान्य हो गया है कि सुप्रीम कोर्ट जो निर्णय देगी, वह सब मानेंगे।

यह भी पढ़ें:- अजय चौटाला और जेजेपी के 8 विधायकों ने लगाए पौधे, हजारों युवाओं ने दिया जीवनरक्षक रक्त  

रामजन्म भूमि न्यास राम निर्माण समिति का कार्यक्रम है। कोई राजनीतिक कार्यक्रम नहीं है। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को आमंत्रित किया है। उसमें सबकी भागीदारी आवश्यक नहीं है। शारीरिक दूरी के चलते बहुत कम लोग वहां जाएंगे। केवल 200 से 250 लोग ही शिलान्यास कार्यक्रम में रहेंगे।

यह भी पढ़ें:- Deputy CM दुष्यंत चौटाला के अधिकारियों को बड़े आदेश, रिहायशी क्षेत्र के अलावा दूसरी सम्पति का भी हो सर्वे

आदि बद्री (हरियाणा के यमुनानगर जिला में स्थित वन क्षेत्र) में पवित्र सरस्वती उद्गगम स्थल और दिल्ली के गुरुद्वारा शीशगंज साहिब प्रांगण से ली माटी से अयोध्या में श्रीराम मंदिर शिलान्यास पूजन होगा। मंदिर की नींव में कैलास मानसरोवर, कुरुक्षेत्र के ब्रह्मसरोवर सहित सिंधु और यमुना नदी का जल भी अर्पित होगा।

यह भी पढ़ें:- BJP ने बरोदा उपचुनाव के लिए कृषि मंत्री जेपी दलाल को चुनाव प्रभारी किया नियुक्त

लेह-लद्दाख से लेकर हिमाचल प्रदेश, हरियाणा, पंजाब, दिल्ली के बड़े धार्मिक स्थलों से माटी और जलस्रोतों से एकत्रित रज और जल अयोध्या तक पहुंचाने का जिम्मा श्री राम जन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट गीता मनीषी स्वामी ज्ञानानंद महाराज को सौंपा था। ज्ञानानंद महाराज विभिन्न धार्मिक स्थलों की माटी और पवित्र नदियों का जल लेकर सोमवार सायं ब्रज नगरी वृंदावन पहुंच गए। वहां वे उत्तर भारत के विभिन्न धार्मिक स्थलों से एकत्रित माटी में ब्रज रज का समावेश कर मंगलवार सुबह अयोध्या के लिए जाएंगे।