\u0930\u093E\u092E \u092E\u0902\u0926\u093F\u0930 \u092E\u0947\u0902 \u092D\u0942\u092E\u093F \u092A\u0942\u091C\u0928 \u0915\u093E\u0930\u094D\u092F\u0915\u094D\u0930\u092E \u0915\u0947 \u0932\u093F\u092F\u0947 \u0926\u0941\u0932\u094D\u0939\u0928 \u0915\u0940 \u0924\u0930\u0939 \u0938\u091C\u0940 \u092D\u0917\u0935\u093E\u0928 \u0930\u093E\u092E \u0915\u0940 \u0928\u0917\u0930\u0940 ‘\u0905\u092F\u094B\u0927\u094D\u092F\u093E’

“The world’s most advanced Real Content in Hindi”

  1. Home
  2. सोशल-वायरल

राम मंदिर में भूमि पूजन कार्यक्रम के लिये दुल्हन की तरह सजी भगवान राम की नगरी ‘अयोध्या’

Yuva Haryana News, Chandigarh, 04 August 2020 अयोध्या में राम मंदिर के लिए होने वाले भूमि पूजन कार्यक्रम की शुरुआत कल से हो गई है। अयोध्या में जहां रामलला के भव्य मंदिर की आधारशिला रखने खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी पहुंच रहे हैं तो वहीं मुख्यमंत्री योगी आदित्यानाथ खुद तैयारियों...


राम मंदिर में भूमि पूजन कार्यक्रम के लिये दुल्हन की तरह सजी भगवान राम की नगरी ‘अयोध्या’

Yuva Haryana News, Chandigarh, 04 August 2020

अयोध्या में राम मंदिर के लिए होने वाले भूमि पूजन कार्यक्रम की शुरुआत कल से हो गई है। अयोध्या में जहां रामलला के भव्य मंदिर की आधारशिला रखने खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी पहुंच रहे हैं तो वहीं मुख्यमंत्री योगी आदित्यानाथ खुद तैयारियों पर लगातार नजर रखे हुए हैं। मंदिर को लेकर तैयारियों के संबंध में श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के चंपत राय ने बताया कि देशभर के 135 संतों को आमंत्रित किया गया है। भूमि पूजन कार्यक्रम में देश के हर हिस्से के लोगों की भागीदारी होगी।

यह भी पढ़ें:-  Deputy CM दुष्यंत चौटाला के अधिकारियों को बड़े आदेश, रिहायशी क्षेत्र के अलावा दूसरी सम्पति का भी हो सर्वे

राम मंदिर में भूमि पूजन कार्यक्रम के लिये भगवान राम की नगरी अयोध्या को ‘दुल्हन’ की तरह सजाया गया है। भव्य राम मंदिर निर्माण के लिये होने वाले इस एतिहासिक भूमि पूजन कार्यक्रम में बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ प्रमुख मोहन भागवत, उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शामिल होंगे। राज्य की राजधानी लखनऊ तथा अन्य पड़ोसी जनपदों से अयोध्या जाने वाली अधिकतर सड़कें भगवान राम के प्रस्तावित मंदिर और राम लला के बड़े-बड़े पोस्टरों, बैनरों और होर्डिंग से सजी हैं।

राम मंदिर में भूमि पूजन कार्यक्रम के लिये दुल्हन की तरह सजी भगवान राम की नगरी ‘अयोध्या’

यह भी पढ़ें:- BJP ने बरोदा उपचुनाव के लिए कृषि मंत्री जेपी दलाल को चुनाव प्रभारी किया नियुक्त 

अयोध्या जाने वाले वाहनों की जांच उससे पहले पड़ने वाले जिले बाराबंकी से ही शुरू हो जाती है और रास्ते में 4 स्थानों पर सख्त जांच की जा रही है। अयोध्या में प्रवेश करने वाले वाहनों में सवार लोगों के मोबाइल नंबर और वाहनों का पूरा ब्यौरा भी पुलिसकर्मी नोट कर रहे हैं। अयोध्या में उन्हीं लोगों को प्रवेश करने दिया जा रहा है जिन्हें आधिकारिक स्वीकृति मिली हुई है। मंगलवार को अयोध्या पहुंचने वालों को कई स्तरीय सुरक्षा व्यवस्था से होकर गुजरना पड़ा। हनुमानगढ़ी इलाके में पुलिस और प्रशासन के वाहनों के सायरन दूर से ही सुनाई देने लगते हैं।

कानों में रस घोलती राम भजनों की मधुर धुन

भगवान राम के भजनों की मधुर आवाज भी कानों में रस घोलने लगती है। हनुमानगढ़ी जाने वाले मार्ग पर जगह-जगह लकड़ी की बल्लियों से मार्ग अवरोधक लगाये गये है। कई स्थानों पर लोहे के अवरोधक भी लगाये गये है। हनुमानगढ़ी जाने वाला मार्ग पूरी तरह से साफ सुथरा है और जगह-जगह पर पानी का छि़ड़काव भी किया गया है ।सुरक्षा व्यवस्था के बारे में विस्तार से जानकारी देते हुये अयोध्या के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक दीपक कुमार ने बताया, ‘जहां तक 5 अगस्त की बात है तो हम कोविड-19 नियमों का पूरी तरह से पालन कर रहे हैं । इसलिये हम किसी भी बाहरी व्यक्ति को अयोध्या में प्रवेश नही दे रहे है, शहर में एक जगह पांच व्यक्तियों को एकत्र होने की अनुमति भी नहीं है। हम पूरी कोशिश कर रहे हैं कि कोविड-19 के नियमों का सख्ती से पालन हो।’ उन्होंने बताया, ‘जहां तक प्रधानमंत्री की यात्रा की बात है, उसके लिये कई सुरक्षा एजेंसियां काम कर रही हैं। जहां तक शहर की जनता का सवाल है, शहर की दुकानें और बाजार कोविड नियमों को ध्यान में रखते हुये खुले रहेंगे।’

यह भी पढ़ें:- हरियाणा में 11 साल बाद फिर से आठवीं की बोर्ड परीक्षा शुरू करने के मामले में फंसा पेंच

राम मंदिर में भूमि पूजन कार्यक्रम के लिये दुल्हन की तरह सजी भगवान राम की नगरी ‘अयोध्या’

भूमि पूजन कार्यक्रम के अलावा शहर में किसी भी आयोजन की अनुमति नहीं

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने बताया कि 5 अगस्त को अयोध्या में प्रवेश करने वालों के लिये मार्ग में परिवर्तन किया गया है लेकिन अयोध्या में रहने वाले लोगों को अपना पहचान पत्र दिखाने पर रोका नहीं जायेगा लेकिन बाहरी लोगों को शहर में प्रवेश की अनुमति नहीं होगी। शहर के मंदिर- मस्जिद खुले रहेंगे लेकिन भूमि पूजन कार्यक्रम के अलावा शहर में किसी भी आयोजन की अनुमति नहीं है।’ इस बीच हनुमानगढ़ी मार्ग के प्रवेश द्वार पर कुछ मजदूर पंडित दीन दयाल उपाध्याय स्मारक की टूटी दीवार को ठीक करने में लगे हैं। हनुमानगढ़ी मंदिर के पास भारी सुरक्षाकर्मी तैनात है। हनुमानगढ़ी को नये रंग-रोगन के साथ काफी खूबसूरती से संजाया गया है। इसके आसपास की दुकानों को भी गहरे पीले रंग से रंगा गया है जो देखने में काफी मनोरम लग रहा है।