“अंब्रेला योजना” महिला सुरक्षा की और एक और कदम ,जानिए क्या क्या मिलेगा लाभ

Sahab Ram
2 Min Read

 

 

महिला सुरक्षा एक ऐसा विषय है जो न केवल महिलाओं के लिए, बल्कि पूरे समाज के लिए अहम विषय है। महिलाओं के खिलाफ अपराधों की बढ़ती संख्या एक गंभीर चिंता का विषय है।

इस समस्या से निपटने के लिए केंद्रीय मंत्रिमंडल ने महिला सुरक्षा को मजबूत करने के लिए “अंब्रेला योजना” को मंजूरी देने का निर्णय लिया है, जिससे आंचिक समय में महिलाओं को सुरक्षित और सुरक्षित महसूस करने में मदद मिलेगी।

इस प्रस्ताव के तहत 2021-22 से 2025 तक कुल 1179.72 करोड़ रुपये की लागत में योजना को लागू किया जाएगा।

कुल लागत

1. इस परियोजना के लाभार्थियों के लिए कुल 1179.72 करोड़ रुपये का बजट निर्धारित किया गया है।
2. इसमें से 885.49 करोड़ रुपये गृह मंत्रालय द्वारा प्रदान किए जाएंगे, जबकि 294.23 करोड़ रुपये निर्भया फंड से आयेंगे।

अंब्रेला योजना के मुख्य उद्देश्य
1. साइबर अपराधों की रोकथाम
योजना महिलाओं और बच्चों को साइबर अपराधों से बचाने के लिए विभिन्न पहलुओं पर ध्यान केंद्रित करेगी।
2. यौन उत्पीड़न के मामलों में जांचकर्ताओं और अभियोजकों की क्षमता निर्माण

योजना यौन उत्पीड़न के मामलों की सटीक जांच करने वाले अधिकारियों और अभियोजकों को प्रशिक्षित करने का मकसद रखेगी।

3. महिला हेल्प डेस्क एवं मानव तस्करी विरोधी इकाइयां
इस योजना से महिला हेल्प डेस्क और मानव तस्करी विरोधी इकाइयों को स्थापित करके महिलाओं को सकारात्मक समर्थन प्रदान किया जाएगा।

4. 112 आपातकालीन प्रतिक्रिया सहायता प्रणाली 2.0
आंचिक समय में आपातकालीन परिस्थितियों में महिलाओं को तुरंत सहायता प्रदान करने के लिए सुधार किया जाएगा।

5. फोरेंसिक विज्ञान प्रयोगशालाओं में विकास
राष्ट्रीय और राज्य स्तर पर फोरेंसिक विज्ञान प्रयोगशालाओं को मजबूत करने और सुधारने के लिए योजना कदम उठाएगी।

यह योजना महिलाओं के लिए एक सशक्त कदम है। यह महिलाओं को सुरक्षित महसूस करने और समाज में समान भागीदारी निभाने में मदद करेगा।

इस योजना को सफल बनाने के लिए राज्यों की सक्रिय भागीदारी आवश्यक है।
महिलाओं और बच्चों को योजना के बारे में जागरूक करने के लिए अभियान चलाए जाने चाहिए।

Share This Article
Leave a comment