\u0913\u092A\u0940 \u0927\u0928\u0916\u0921\u093C \u0915\u0940 CAA \u0915\u094B \u0932\u0947\u0915\u0930 \u092B\u093F\u0938\u0932\u0940 \u091C\u0941\u092C\u093E\u0928, \u0915\u0939 \u0926\u0940 \u092F\u0947 \u092C\u0921\u093C\u0940 \u092C\u093E\u0924

“The world’s most advanced Real Content in Hindi”

  1. Home
  2. राजनीति

ओपी धनखड़ की CAA को लेकर फिसली जुबान, कह दी ये बड़ी बात

Pardeep Dhankar, Yuva Haryana सीए को लेकर रविवार को भाजपा द्वारा झज्जर में शुरू किए गए जागरूकता अभियान को लेकर पूर्व मंत्री व भाजपा किसान मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष रह चुके ओपी धनखड़ की जुबान एक बार फिर फिसल गई। पूर्व मंत्री जी द्वारा वैसे तो यह जागरूकता अभियान कांग्रेस...


ओपी धनखड़ की CAA को लेकर फिसली जुबान, कह दी ये बड़ी बात

Pardeep Dhankar, Yuva Haryana

सीए को लेकर रविवार को भाजपा द्वारा झज्जर में शुरू किए गए जागरूकता अभियान को लेकर पूर्व मंत्री व भाजपा किसान मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष रह चुके ओपी धनखड़ की जुबान एक बार फिर फिसल गई। पूर्व मंत्री जी द्वारा वैसे तो यह जागरूकता अभियान कांग्रेस सहित अन्य विपक्षी पार्टियों के खिलाफ मोर्चा खोलने के लिए शुरू किया गया था,लेकिन इसी दौरान मंत्री जी की जुबान फिसल गई और उन्होंने अपने ही पार्टी के इस जागरूकता अभियान पर सवालिया निशान लगाते हुए कह डाला कि यह सारी की सारी नौटंकी कांग्रेस व उसके नेताओं की पोल खोलने के लिए ही की जा रही है।

झज्जर के लोकनिर्माण विश्राम गृह से शुरू किए गए इस जागरूकता अभियान के तहत पूर्व मंत्री ने पहले तो भाजपाईयों को सीए के बारे में जागरूकता का पाठ पढ़ाया और बाद में इसे अभियान को नौटंकी बताते हुए कांग्रेस सहित अन्य विपक्षी दलों पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि कुछ लोग हिंदू नाम रखकर अपनी राजनीति चमका रहे है। लेकिन जब हिंदू के भले की बात आती है तो यहीं लोग उसके विरोध मेें खड़े हो जाते है। यह तो वहीं बात हुई की जीवन भर दलीप कुमार बनकर फिल्म की मार्किटिंग करने वाले की जब पहचान हुई तो वह यूनुस खान निकले।

उन्होंने कहा कि सीएए को लेकर बनाया गया कानून न्याय संगत है और इसका विरोध बेमानी है। उन्होंने यह भी कहा कि यह कानून बग्लादेश,अफगानिस्तान व पाकिस्तान के उन हिंदू,बौध,जैन,सिख व पारसी लोगों के लिए है जोकि इन देशों में प्रताडिंत रहे है और उन्होंने हमारे यहां आकर शरण ली है। यह कानून ऐसे लोगों को भारत का नागरिक बनाने के लिए है। लेकिन इस कानून को लेकर विरोध करने वाली कांग्रेस और अन्य विपक्षी दलों के अलावा विशेष पकड़े पहनने वाले व दाढ़ी रखकर विरोध करने वालों को पहचानने की जरूरत है। इनका विरोध इसलिए नहीं है कि उक्त लोगों को इसमें शामिल क्यों किया गया है,जबकि इनका विरोध इसलिए है कि इसमें मुस्लिम लोगों को आखिर क्यों नहीं लिया गया।