\u0909\u092A\u092E\u0941\u0916\u094D\u092F\u092E\u0902\u0924\u094D\u0930\u0940 \u0928\u0947 \u0916\u0930\u0940\u092B \u092B\u0938\u0932 \u0916\u0930\u0940\u0926 \u0915\u0940 \u0924\u0948\u092F\u093E\u0930\u093F\u092F\u094B\u0902 \u0915\u094B \u0932\u0947\u0915\u0930 \u0905\u0927\u093F\u0915\u093E\u0930\u093F\u092F\u094B\u0902 \u0915\u0947 \u0938\u093E\u0925 \u0915\u0940 \u092C\u0948\u0920\u0915

“The world’s most advanced Real Content in Hindi”

  1. Home
  2. राजनीति

उपमुख्यमंत्री ने खरीफ फसल खरीद की तैयारियों को लेकर अधिकारियों के साथ की बैठक

Yuva Haryana, Chandigarh 25 सितंबर से शुरू होने जा रही खरीफ सीजन की फसल खरीद के लिए मंडियों में आने वाले किसी भी किसान को कोई समस्या नहीं आनी चाहिए। मंडियों में शैड, सड़कें, पैकेजिंग बैग, तुलाई मशीनें आदि ठीक कर लें ताकि किसान परेशान न हो। फसल खरीद में...


उपमुख्यमंत्री ने खरीफ फसल खरीद की तैयारियों को लेकर अधिकारियों के साथ की बैठक

Yuva Haryana, Chandigarh

25 सितंबर से शुरू होने जा रही खरीफ सीजन की फसल खरीद के लिए मंडियों में आने वाले किसी भी किसान को कोई समस्या नहीं आनी चाहिए। मंडियों में शैड, सड़कें, पैकेजिंग बैग, तुलाई मशीनें आदि ठीक कर लें ताकि किसान परेशान न हो। फसल खरीद में कोताही कतई बर्दाश्त नहीं की जाएगी। ये निर्देश प्रदेश के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने दिए। वे शुक्रवार को खाद्य, आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले विभाग, कृषि एवं किसान कल्याण विभाग, हरियाणा कृषि विपणन बोर्ड, हैफेड, हरियाणा वेयरहाउसिंग कारपोरेशन समेत अन्य एजेंसियों के अधिकारियों से खरीफ फसलों की खरीद को लेकर तैयारियों का अपडेट लिया। बैठक में हैफेड के चेयरमैन कैलाश भगत समेत कई विभागों के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद रहे।

डिप्टी सीएम ने बताया कि खरीफ फसलों की खरीद की तैयारियां प्रदेशभर में जोरों पर चल रही है। उन्होंने बताया कि राज्य सरकार इस बार धान फसल की खरीद 25 सितंबर से शुरू करेगी और यह खरीद कार्य 15 नवंबर तक चलेगा। वहीं बाजरा, मक्का, मूंग आदि फसल की खरीद 1 अक्टूबर से 15 नवंबर तक होगी। दुष्यंत चौटाला ने बताया कि इस वर्ष धान खरीद के लिए करीब 200 खरीद केंद्र बनाए गए है। इसी तरह बाजरा के लिए 86, मक्का के लिए 19 और मूंग के लिए 38 खरीद केंद्र होंगे। उपमुख्यमंत्री ने बताया कि सरकार ने इस खरीफ सीजन में धान के लिए 1940, बाजरा के लिए 2250, मक्का के लिए 1870 रुपये व मूंग के लिए 7275, मूंगफली के लिए 5550 रुपये प्रति क्विंटल न्यूनतम समर्थन मूल्य निर्धारित किया है।

उन्होंने किसानों से अपील करते हुए कहा कि किसान मंडी में अपनी फसल बेचने के लिए अपना पंजीकरण जरूर करवाए क्योंकि 31 अगस्त तक मेरी फसल मेरा ब्यौरा पोर्टल पर पंजीकरण करवाना अनिवार्य है। दुष्यंत चौटाला ने बताया कि अब तक धान बेचने के लिए 2 लाख 90 हजार, बाजरा के लिए 2 लाख 45 हजार व मूंग के लिए 66 हजार से अधिक किसानों ने अपना पंजीकरण करवा लिया है।