Yuva Haryana
रेल मंत्री ने जगाई लाखों बेरोजगारों की उम्मीद, जल्द ही रेलवे रिक्त पदों पर होगी परीक्षार्थियों की जॉइनिंग
 

देशभर में असिस्टेंट लोको पायलट और टेक्नीशियन की सन 2018 में 64 हजार 371 पदों के लिए भर्ती निकली थी। जिसमें लाखों परीक्षार्थियों ने परीक्षा दी, लिखित परीक्षा और दस्तावेज वेरिफिकेशन में पास होने वाले हजारों परीक्षार्थियों का मेडिकल होगा, लेकिन उन्हें भर्ती करने की वजह वेटिंग में डाल दिया गया। इन परीक्षार्थियों को मेडिकल के बाद उम्मीद थी कि इनकी जॉइनिंग जल्द ही रेलवे में होगी लेकिन 4 साल बाद भी इंतजार करते रहे। ऐसे में विरोध और अपने क्षेत्रों के सांसदों के माध्यम से परीक्षार्थियों ने अपनी आवाज रेल मंत्रालय एवं संसद तक पहुंचाई। अब रेल मंत्रालय ने देश के सभी महाप्रबंधक को पत्र लिखकर रिक्त पदों का ब्यौरा मांगा है, जिसके चलते एक बार फिर परीक्षार्थियों को उम्मीद जगी है।

सन 2018 में रेलवे रिक्रूटमेंट बोर्ड असिस्टेंट लोको पायलट के लिए 27 हजार  795 और टेक्नीशियन पदों के लिए 36 हजार की वैकेंसी निकाली थी। अहमदाबाद, अजमेर, प्रयागराज, बेंगलुरु, भोपाल, भुवनेश्वर, बिलासपुर, चंडीगढ़, चेन्नई, गोरखपुर, गुवाहटी, जम्मू एवं कश्मीर, कोलकाता, मालदा, मुंबई, मुजफ्फरपुर, पटना, रांची, सिलीगुड़ी, तिरुपति, तिरुअनंतपुरम और सिकंदराबाद में अलग-अलग आरआरबी में परीक्षार्थियों ने आवेदन किया था।

परिणाम निकलने के बावजूद हजारों परीक्षार्थी को नौकरी नहीं मिल सकी। जबकि इनका मेडिकल तक रेलवे अस्पतालों में हो चुका था। फिट होने के बावजूद इन लोगों की भर्ती नहीं हुई। इन परीक्षार्थियों का कहना है, कि रिक्त पदों होने के बावजूद इनकी भर्ती नहीं की गई और इनको वेटिंग में  रख दिया गया। देशभर से इन परीक्षार्थियों ने अलग-अलग ज्ञापन दिए जिसके चलते अब 14 मई 2022 को रेल मंत्रालय ने सभी महाप्रबंधक से पत्राचार  कर जानकारी मांगी है। इस पत्र के बाद अब परीक्षार्थियों को उम्मीद जगी है, कि इन पदों पर भर्ती है। पत्राचार के बाद साफ हो जाएगा कि कितने पद अभी खाली पड़े हैं।

रेल मंत्रालय ने सभी महाप्रबंधक ओ को लेटर भेजकर जानकारी मांगी है कि कितने पद खाली हैं‌। इसकी जानकारी विभिन्न बिंदुओं पर देनी होगी। इसके तहत कैटेगिरी, आरआरबी द्वारा नोटिफाई की गई वैकेंसी, पैनल सप्लाइड, परीक्षार्थियों ने ज्वाइन नहीं किया या फिर छोड़ गए, आरआरबी द्वारा की गई रिप्लेसमेंट डिमांड, कितनी रिप्लेसमेंट मिलीं, मौजूदा डीआर वैकेंसी, कितनी रिप्लेसमेंट प्रपोज्ड की गई हैं। अतिरिक्त वैकेंसी प्रपोज्ड तथा रिमार्क शामिल हैं। इन बिंदुओं पर ही सारी जानकारी उपलब्ध करवानी होगी।