\u091C\u093E\u0928\u093F\u090F \u0906\u091C \u0915\u094C\u0928 \u0938\u093E \u0916\u093E\u0938 \u0926\u093F\u0928 \u0939\u0948 ? \u0939\u0930\u093F\u092F\u093E\u0923\u093E \u0915\u0947 \u0915\u093F\u0928 \u091C\u093F\u0932\u094B \u092E\u0947\u0902 \u0905\u092A\u0928\u0947 \u092A\u093E\u0935 \u092A\u0938\u093E\u0930 \u0930\u0939\u093E \u0939\u0948 ?

“The world’s most advanced Real Content in Hindi”

  1. Home
  2. देश

जानिए आज कौन सा खास दिन है ? हरियाणा के किन जिलो में अपने पाव पसार रहा है ?

Yuva Haryana News Chandigarh, 28 July, 2020 हर साल 28 जुलाई का दिन हेपेटाइटिस दिवस के रूप मे मनाया जाता है। [highlight bgcolor=”#eeee22″]क्या होता है ये हेपेटाइटिस? [/highlight] हेपेटाइटिस बी वायरस (HBV) के कारण होने वाली एक संक्रामक बीमारी है, जो मनुष्य के साथ बंदरों की प्रजाति के लीवर को...


जानिए आज कौन सा खास दिन है ? हरियाणा के किन जिलो में अपने पाव पसार रहा है ?

Yuva Haryana News

Chandigarh, 28 July, 2020

हर साल 28 जुलाई का दिन हेपेटाइटिस दिवस के रूप मे मनाया जाता है।

[highlight bgcolor=”#eeee22″]क्या होता है ये हेपेटाइटिस?  [/highlight]

हेपेटाइटिस बी वायरस (HBV) के कारण होने वाली एक संक्रामक बीमारी है, जो मनुष्य के साथ बंदरों की प्रजाति के लीवर को भी संक्रमित करती है, जिसके कारण लीवर में सूजन और जलन पैदा होती है, इसलिए इसे हेपेटाइटिस कहते हैं। इस बीमारी के कारण एशियाऔर अफ्रिका में महामारी पैदा हो चुकी है।

[highlight bgcolor=”#eeee22″]HIV से भी खतरनाक है Hepatitis B[/highlight]
हेपेटाइटिस बी एचआईवी के मुकाबले 50 से 100 गुना अधिक खतरनाक होता है क्योंकि हेपेटाइटिस बी का बैक्टीरिया बॉडी के बाहर भी कम से कम सात दिन तक जिंदा रहकर किसी हेल्दी इंसान को प्रभावित कर सकता है। लेकिन वक्त रहते इसके लक्षणों की पहचान कर ली जाए, तो जान बचाई जा सकती है। हेपेटाइटिस के जितने भी वायरस मौजूद हैं, उनमें सबसे खतरनाक वायरस ‘बी’ माना जाता है।

[highlight bgcolor=”#eeee22″]ऐसे फैलता है हेपेटाइटिस बी का वायरस[/highlight]
ये वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में या तो संक्रमित सूई या फिर असुरक्षित यौन संबंधों की वजह से फैल सकता है। यह वायरस ऐसा है कि इसे पूरी तरह से शरीर से खत्म नहीं किया जा सकता। लेकिन हां, दवाइयों के जरिए जरूर इसे कंट्रोल में किया जा सकता है। हेपेटाइटिस बी बड़ी ही शांति के साथ अटैक करता है और व्यक्ति को इसके बारे में पता भी नहीं चलता। यही वजह है कि अनजाने में ही यह वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति के शरीर में पहुंच जाता है।

एक नजर-  हरियाणा और हेपेटाइटिस बी

हरियाणा मे हेपेटाइटिस बी की औसत (Average) देश की औसत (Average) से ज्यादा है।

PGIMS-रोहतक के आंकड़ो के अनुसार, हरियाणा में हेपेटाइटिस बी की औसत 5.28% है जबकि राष्ट्रीय औसत 4% है।

पिछले 5 साल मे समूचे प्रदेश से 2 लाख नमुने(Sample) लिए गए, जिसमे से 10571 नमुने पॉजिटिव पाए गए । कुल पॉजिटिव मामलो मे से 65% मामले केवल 6 जिलो मे पाए गए जो कि चिन्ता का विषय है।

ये हॉटस्पॉट जिले है कैथल,जींद,फतेहाबाद,सोनीपत,करनाल और पानीपत

रिपोर्ट के अनुसार हेपेटाइटिस बी के कुल मामलों मे से 72% मामले केवल पुरुषो मे पाए गए है।

वहीं, ये भी बात दें कि हरियाणा सरकार ने काला पिलिया के साथ हेपेटाइटिस बी के वायरस की जांच निशुल्क करवा दी है। लगभग दो महीने पहले पीजीआई रोहतक में हेपेटाइटिस बी की निशुल्क दवाईयों की सुविधा भी मरीजों के लिए शरू की गई थी। हालांकि इसके लिए मरीजों को हरियाणा का आधार कार्ड भी लाना जरूरी होगा।

हेपेटाइटिस बी के लक्षण

लक्षणों की बात करें, तो हेपेटाइटिस बी में:
1- जोड़ों में दर्द, पेट में दर्द, उल्टी और कमजोरी का अहसास होता है।
2- हमेशा थकान सी लगती है। स्किन का रंग पीला हो जाता है और आंखों का सफेद हिस्सा भी पीला पड़ जाता है।
3- बुखार आ जाता है और यूरिन का रंग भी गाढ़ा हो जाता है।
4- भूख का लगना कम हो जाता है।

[highlight bgcolor=”#eeee22″]प्रमुख लक्षण हैं- लीवर में सूजन और जलन, उल्टी, जो अन्ततः पीलिया और कभी-कभी मौत का कारण भी बन जाता है।[/highlight]

[highlight bgcolor=”#dd3333″]हेपेटाइटिस बी से बचाव[/highlight]
1- सुरक्षित यौन संबंध बनाएं। एक से ज्यादा पार्टनर के साथ सेक्स करने से बचें।
2- किसी और के साथ सूई, रेजर, टूथब्रश वगैरह शेयर न करें, जिनमें इंफेक्शन वाला ब्लड हो सकता है।
3- अगर आपको खतरा महसूस हो रहा है, तो हेपेटाइटिस बी सीरीज का इंजेक्शन लगवाएं। लेकिन हेपेटाइटिस सी के लिए कोई टीका नहीं है।
कोई भी टीका लगवाते वक्त इस बात का ध्यान रखें कि उसमें नई सूई का इस्तेमाल हो।
4- हेपेटाइटिस- बी और सी दूषित खाना, पानी या इंफेक्टेड मरीज के गले लगने, चूमने और साथ खाने- पीने से नहीं फैलता।
5- हेपेटाइटिस- डी बैक्टीरिया हेपेटाइटिस- बी के बैक्टीरिया की गैरमौजूदगी में इंफेक्शन नहीं फैला सकता। इसलिए इससे बचने के लिए हेपेटाइटिस बी के लिए सुझाए गए तरीके अपनाएं।