2019 \u092E\u0947\u0902 \u0938\u0924\u094D\u0924\u093E \u092E\u0947\u0902 \u0935\u093E\u092A\u0938\u0940 \u0915\u0930\u0947\u0917\u0940 \u0915\u093E\u0902\u0917\u094D\u0930\u0947\u0938, ‘\u0905\u091A\u094D\u091B\u0947 \u0926\u093F\u0928’ \u0915\u093E \u0939\u093E\u0932 \u092D\u0940 ‘\u0936\u093E\u0907\u0928\u093F\u0902\u0917 \u0907\u0902\u0921\u093F\u092F\u093E’ \u091C\u0948\u0938\u093E \u0939\u094B\u0917\u093E

“The world’s most advanced Real Content in Hindi”

  1. Home
  2. देश

2019 में सत्ता में वापसी करेगी कांग्रेस, ‘अच्छे दिन’ का हाल भी ‘शाइनिंग इंडिया’ जैसा होगा

कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी ने नरेन्द्र मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए कहा है कि ‘अच्छे दिन’ का हाल भी ‘शाइनिंग इंडिया’ जैसा होगा और 2019 में हम वापसी करेंगे। यूपीए अध्यक्ष ने एक निजी समाचार चैनल के कार्यक्रम में कहा कि 2019 के आम चुनाव में कांग्रेस...


2019 में सत्ता में वापसी करेगी कांग्रेस, ‘अच्छे दिन’ का हाल भी ‘शाइनिंग इंडिया’ जैसा होगा

कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी ने नरेन्द्र मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए कहा है कि ‘अच्छे दिन’ का हाल भी ‘शाइनिंग इंडिया’ जैसा होगा और 2019 में हम वापसी करेंगे। यूपीए अध्यक्ष ने एक निजी समाचार चैनल के कार्यक्रम में कहा कि 2019 के आम चुनाव में कांग्रेस का मुख्य मुद्दा मोदी सरकार के दावे होंगे और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के ‘अच्छे दिन’ का हाल भी अटल बिहारी वाजपेयी सरकार के ‘इंडिया शाइनिंग’ जैसा ही होगा।

विपक्षी दलों को कांग्रेस के बैनर के तले एक जुट करने के प्रयास में जुटी सोनिया ने अपने संबोधन में मोदी सरकार पर जमकर हमले किए। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार के चार वर्ष के कार्यकाल के दौरान काम करने के लंबे-चौडे बखान किए जा रहे। उन्होंने सवाल किया कि मोदी के सत्ता संभालने से पहले क्या भारत पूरी तरह एक ब्लैक होल था। क्या भारत विकास और महानता की ओर केवल पिछले चार साल में ही बढा है। और इस तरह की बातें क्या हमारे लोगों की बुद्धिमत्ता का अपमान नहीं है।
सोनिया गांधी ने कहा कि लोकतंत्र में बहस की पूरी खुली छूट होनी चाहिए। वर्तमान में काफी लोग पीछे छूट रहे हैं और इतिहास को दोबारा लिखने के प्रयास किए जा रहे हैं। देश की मौजूदा राजनीति के एक अलग दौर से गुजरने की बात करते हुए कांग्रेस नेता ने कहा संविधान के सिद्धांतों पर हमला किया जा रहा है। सत्ता में बैठे लोग ही भडकाऊ बयान दे रहे हैं जिससे अभिव्यक्ति की आजादी पर खतरा बढता जा रहा है।