Yuva Haryana
सर्दी, जुकाम के इन लक्षणों को भी न करें इग्नोर, ओमिक्रॉन से बचाव को लेकर एक्सपट्र्स दे रहे हैं यह सलाह
 

ओमिक्रॉन दुनियाभर में फैल रहा है। तबाही के लगातार लक्षण सामने आ रहे हैं। भारत में भी लगातार बीमारी का फैलाव हो रहा है। भारत में ओमिक्रॉन से संक्रमित लोगों की संख्या अब तक लगभग 1900 पहुंच गई है। इसको देखते हुए साइंटिस्ट लगातार एंटीबॉडी विकसित करने के लिए दिन-रात रिसर्च कर रहे हैं।

अब चौंकाने वाली बात सामने आई है। गले में खराश, बिना खांसी-जुकाम के सिर्फ गले में खराश भी इस बीमारी के लक्षण हो सकते हैं। सर्दियों में इम्युनिटी कमजोर होने और मौसम में बदलाव के इम्युनिटी कमजोर होना आम बात है। जिसके कारण बदलते मौसम में सर्दी-जुकाम जैसे संक्रमण की चपेट में भी आ जाते हैं।

लेकिन हाल ही में एक्सपट्र्स ने बेहद चौंकाने वाला दावा किया है। इनके अनुसार नाक बहना भी ओमिक्रॉन का लक्षण हो सकता है। कुछ ऐसे लक्षण हैं, जिनको आप इग्नोर न करें। एक्सपट्र्स के मुताबिक सर्दी में बहती हुई नाक भी ओमिक्रॉन का संकेत हो सकती है।

विशेषज्ञों के अनुसार यह बेहद की आश्चर्य की बात है कि यूके सरकार ने कोविड-19 के पुराने तीन लक्षणों के अलावा कोरोना को लेकर गाइडलाइन को अपडेट नहीं किया है। इनमें नाक बहना, छींक आना और गले में खराश  जैसे लक्षण शामिल हैं।

ऐसे मरीजों में पीठ के निचले हिस्से में दर्द, मांसपेशियों में दर्द और रात को पसीना आना भी ओमिक्रॉन हो सकता है। एक्सपर्ट ने यह भी कहा कि इन लक्षणों को सर्दी या फ्लू का लक्षण समझकर आसानी से नजरअंदाज किया जा सकता है या फिर अगर कोई हैवी वर्कआउट कर लेता है तो उसके भी मसल्स में पेन होने लगता है।

नाक बहने का सीधे तौर पर यह मतलब नहीं है कि ओमिक्रॉन है। अगर फिर भी आप तकलीफ में हैं, तो संक्रमण का पता लगाने के लिए लिए टेस्ट करा लें और खुद को आइसोलेट कर लें। ब्रिटिश जनरल फिजिशियन डॉ. आमिर खान के मुताबिक ओमिक्रॉन से संक्रमित होने पर रात में इतना पसीना आता है कि कपड़े भीग सकते हैं।

हालांकि पसीना आना एक आम बात है। ऐसे लोगों में वे महिलाएं भी शामिल हैं, जिनके पीरियड्स आने बंद हो चुके हैं और दवाओं या ड्रग्स और शराब आदि का सेवन करती हैं। इन्हें हाईपरहाईड्रोसिस आदि भी हो सकता है। कोविड को फैलने से रोकने, पहचानने और अस्वस्थ होने से बचने का एक और महत्वपूर्ण तरीका है, कि आप वैक्सीन का बूस्टर डोज भी ले लें।

एक्सपर्ट कहते हैं कि ताजा ओमिक्रॉन का जो वैरिएंट मार्केट में फैल रहा है, वह अन्य की तुलना में काफी माइल्ड है। वहीं, ब्रिटेन की पहली ऑफिसिअल रिपोर्ट के मुताबिक ओमिक्रॉन वैरिएंट से संक्रमित लोगों को डेल्टा वैरिएंट की तुलना में हॉस्पिटल में भर्ती होने की संभावना 50-70 प्रतिशत कम है। हेल्थ एक्सपर्ट और डॉक्टर्स के मुताबिक कोविड बूस्टर ओमिक्रॉन से बचाव करते हैं