Yuva Haryana
Business Correspondent Sakhi Yojana : सरकार ने महिलाओं के खाते में ट्रांसफर किए 4000 रुपये, जानें आपके अकाउंट में पैसा आया है या नहीं?
 

Sakhi Yojana : देश में महिलाओं पर होते अत्याचार को देखते हुए सरकार भी अब महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए हर संभव प्रयास करती रहती है। सरकार ने महिलाओं को रोजगार दिलाने के लिए कई योजनाओं को शुरू किया है। इन्हीं योजना में से एक बिजनेस कॉरेस्पॉन्डेन्ट सखी योजना (Business Corporate Sakhi Yojana) है। इस योजना के तहत देश की गरीब पर जरुरतमंद महिलाओं को कुछ मानदेय के रूप में सरकार की ओर से धनराशि प्रदान की जाती है। जिससे की महिलाएं अपना कारोबार शुरू कर सकती है।

इसी कड़ी में नए साल पर सरकार देश की महिलाओं के लिए एक ख़ास तोहफा देने के तैयारी कर रही है। बता दें कि बिजनेस कॉरेस्पॉन्डेन्ट सखी योजना (Business Correspondent Sakhi Yojana) के तहत सरकार ने महिलाओं कें खाते में धनराशी भेजी है। जो महिलाएं इस योजना में रजिस्टर्ड हैं, उनके खाते में पहली सैलरी भेज दी गई है।

करीब 20000 बिजनेस कॉरेस्पॉन्डेन्ट सखी (Business Correspondent Sakhi Yojana) के खाते में 4000 रुपए ट्रांसफर किए हैं। यही नहीं सखी योजना से जुड़ी महिलाओं को सैलरी के साथ काम करने पर कमीशन भी दिया जा रहा है।

What is Business Correspondent Sakhi Yojana / SHG (Sakhi Yojana)

बिजनेस कॉरेस्पॉन्डेन्ट सखी योजना (Business Correspondent Sakhi Yojana) यानि सेल्फ हेल्प ग्रुप छोटे लेवल पर काम कर रही महिलाओं का एक समूह है। ये अपने संसाधनों और सेविंग्स फंड का इस्तेमाल करके अपना कारोबार बढ़ता हैं। किसी सूक्ष्म कारोबार से जुड़े इस गु्रप में 10-25 महिलाएं शामिल हो सकती हैं। एसएचजी यानी सेल्फ हेल्प गु्रप बनाने के लिए समूह को रजिस्टर करना होता है। साथ ही बैंक खाता खुलवाना होता है। वहीं तय सीमा में बेहतर प्रदर्शन पर बैंक की तरफ से उसे आसान ऋण मिलने लगता है। साथ ही कई सरकारी योजनाओं का लाभ भी मिलता है। इस योजना का इसका मकसद ग्रामीण क्षेत्रों में बैंकिंग सुविधाओं को पहुंचाना है। इस सरकारी योजना से उत्तरप्रदेश की 58000 महिलाओं को रोजगार मिलेगा। 

Who Can become a Bank Sakhi?

बैंक सखी बनने के लिए 10वीं पास होना जरूरी है। इसके अलावा उनको ऑनलाइन काम करने के बारे में भी जानकारी होनी चाहिए। इसके अलावा बैंकिग कामकाज के बारे में भी जानकारी होनी चाहिए।

Honorarium of Rs 4000 was Transferred

बिजनेस कॉरेस्पॉन्डेन्ट सखी (Business Correspondent Sakhi) घर घर जाकर वित्तीय सेवायें उपलब्ध कराती है। इन्हें 6 महीने के लिए सरकार की तरफ से 4000 रुपए का मानदेय दिया जाता है। इसके अलावा काम बढऩे पर उनको ट्रांजेक्शन होने पर कमीशन भी दिया जाएगा। इससे उनकी नियमित आय हो सकेगी। 

Eligibility For Business Correspondent Sakhi Yojana

इस योजना का लाभ उठाने के लिए महिलाओं को कम से कम 10वीं पास होना अनिवार्य है।

उन्हें बैंकिंग कामों और ऑनलाइन काम की जानकारी होनी चाहिए।

इस योजना में उत्तर प्रदेश की महिलाएं हिस्सा ले सकती है।

इस सरकारी योजना से 58000 महिलाओं को रोजगार मिलेगा।

इसका मकसद ग्रामीण क्षेत्रों में बैंकिंग सुविधाओं को पहुंचाया जा सके।

Required Documents

  • आधार कार्ड

  • बैक का पासबुक

  • 10वीं पास का मार्कशीट,

  • योजना सर्टिफिकेट

  • इसके अलावा आवेदक की पासपोर्ट साइज फोटो और मोबाइल नंबर होना अनिवार्य है।

Banking Services will Increase in Rural Areas

इस योजना में यूपी की महिलाएं भाग ले सकती हैं। बता दें इसमें सिर्फ महिलाओं को ही नौकरी दी जाएगी। इस योजना के तहत लगभग 58000 महिलाओं को रोजगार मिलेगा। इस योजना का मुख्य उद्देश्य ग्रामीण महिलाओं को आगे बढ़ाना हैं और गांव के इलाके में बैंकिग सेवाओं का विस्तार करना है।

Where to Register for Business Correspondent Sakhi Yojana

बिजनेस कॉरेस्पॉन्डेन्ट सखी योजना (Business Correspondent Sakhi Yojana) में रजिस्ट्रेशन के लिए यूपी बी.सी.सखी एप लांन्च किया गया है। इसे गूगल पर सर्च करके अपलोड किया जा सकता है। इसके बाद आप इस योजना में ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। बता दें कि इस योजना के प्रथम चरण के लिए उम्मीदवारों का चयन हो चुका है। जल्द ही दूसरे चरण की प्रक्रिया शुरू की जा सकती है।

Prime Minister Released Rs 1 Thousand Crore Assistance to Women

बीते दिनों 21 दिसंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रयागराज दौरे के दौरान हुए कार्यक्रम में पीएम मोदी ने महिलाओं को 1000 करोड़ रुपए की धनराशि स्वसहायता समूहों के खातों में अंतरित की। इससे स्वसहायता समूहों की लगभग 16 लाख महिला सदस्यों को फायदा होगा। यह अंतरण दीनदयाल अंत्योदय योजना-राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन (डीएवाई-एनआरएलएम) के तहत किया गया है, जिसके अनुसार प्रति स्वसहायता समूह 1.10 लाख रुपए के हिसाब से 80 हजार समूहों को समुदाय निवेश निधि (सीआईएफ) तथा 15 हजार रुपए प्रति स्वसहायता समूह के हिसाब से 60 हजार समूहों को परिचालन निधि प्राप्त हो रही है।

इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री 20 हजार व्यापार सखियों (Business Correspondent Sakhi) के खातों में पहले महीने का 4000 रुपए मानदेय भी हस्तांतरित किया है। बता दें कि बीसी-सखियां जब घर-घर जाकर जमीनी स्तर पर वित्तीय सेवाएं उपलब्ध कराती हैं, तो उन्हें छह महीने के लिए 4000 रुपए मानदेय दिया जाता है, ताकि वे स्थायी रूप से काम कर सकें और उसके बाद लेन-देन से मिलने वाले कमीशन से उन्हें आय होने लगे। इसके अलावा प्रधानमंत्री कार्यक्रम के दौरान, मुख्यमंत्री कन्या सुमंगल योजना (Mukhyamantri Kanya Sumangala Yojana) के तहत एक लाख से अधिक लाभार्थियों को 20 करोड़ रुपए से अधिक की धनराशि भी हस्तांतरित की।