Yuva Haryana
Atal Pension Yojana : पति-पत्नी के लिए शानदार सरकारी स्कीम, हर महीने मिलेगी 10,000 रुपये पेंशन, ये है सरकार की स्कीम
 

Atal Pension Yojana : सरकारी पेंशन स्कीम अटल पेंशन योजना (Atal Pension Yojana) से जुड़कर पति-पत्नी दोनों 10 हजार रुपये महीने तक पेंशन उठा सकते हैं। इसकी फुल गारंटी सरकार देती है। अगर बुढ़ापे में आपको हर महीने 5 हजार रुपये, और आपकी पत्नी को भी 5 हजार पेंशन मिले तो फिर आर्थिक तौर पर बड़ी राहत मिल जाएगी। सबसे खास बात यह है कि अगर आपकी उम्र 40 साल से ज्यादा है तो फिर इस योजना का लाभ नहीं उठा पाएंगे। इसलिए अगर आपकी उम्र 40 साल से कम है, तो फिर बुढ़ापे में आमदनी के लिए Atal Pension Yojana में निवेश कर सकते हैं। कोई भी भारत का नागरिक इस योजना का लाभ ले सकता है और अधिकतम 5000 रुपये तक पेंशन उठा सकते हैं।

What is Atal Pension Yojana?

अटल पेंशन स्कीम (Atal Pension Scheme) एक ऐसी सरकारी योजना है। जिसमें आपके द्वारा किए गए निवेश आपकी उम्र पर निर्भर करती है। इस योजना के तहत आपको कम से कम 1,000 रुपये, 2000 रुपये, 3000 रुपये, 4000 रुपये और अधिकतम 5,000 रुपये मासिक पेंशन मिल सकती है। ये एक सुरक्षित निवेश है जिसमें अगर आप रजिस्ट्रेशन कराना चाहते हैं तो आपके पास सेविंग्स अकाउंट, आधार नंबर और एक मोबाइल नंबर होना चाहिए।

Atal Pension Scheme is one such government scheme. In which the investments made by you depend on your age. Under this scheme, you can get a minimum monthly pension of Rs 1,000, Rs 2000, Rs 3000, Rs 4000 and maximum Rs 5,000. It is a safe investment in which if you want to register then you need to have a savings account, Aadhar number and a mobile number.

What are the Benefits of This Scheme

इस योजना के तहत 18 से 40 साल के लोग अटल पेंशन योजना (Atal Pension Yojana) में अपना नॉमिनेशन करा सकते हैं। इसके लिए आवेदक के पास बैंक या डाकघर में सेविंग अकाउंट होना जरूरी है। साथ ही ये भी ध्यान रखें कि आप केवल के पास केवल एक अटल पेंशन (Atal Pension Yojana) अकाउंट हो सकता है। इस योजना के तहत आप जितनी जल्दी निवेश करेंगे आपको उतना अधिक फायदा मिलेगा। अगर कोई व्यक्ति 18 साल की उम्र में अटल पेंशन योजना से जुड़ता है तो उसे 60 साल की उम्र के बाद हर महीने 5000 रुपये मासिक पेंशन के लिए बस प्रति माह 210 रुपये जमा करने होंगे। इस तरह से ये योजना अच्छी प्रॉफिट वाली योजना है।

Who Can Invest

अटल पेंशन योजना (Atal Pension Yojana) साल 2015 में शुरू की गई थी। उस समय ये असंगठित क्षेत्रों में काम करने वाले लोगों के लिए शुरू की गई थी, लेकिन अब इस योजना में 18 से 40 वर्ष का कोई भी भारतीय नागरिक निवेश कर सकता है और पेंशन योजना (Pension Yojana)का लाभ उठा सकता है। जिनके पास बैंक या पोस्ट ऑफिस में अकाउंट है वे इसमें आसानी से निवेश कर सकते है। इस योजना में 60 साल के बाद जमाकर्ताओं को पेंशन मिलना शुरू होती है।

Guaranteed Pension Every Month

केंद्र सरकार (Central Government) अटल पेंशन योजना (Atal Pension Yojana) में हर महीने पेंशन की गारंटी देती है। आप इस स्कीम से जुड़कर हर महीने कम से कम 1000 रुपये और अधिकतम 5 हजार रुपये पेंशन पा सकते हैं। 60 की उम्र होते ही पेंशन मिलने लगेगी।

अगर आपकी उम्र 18 से 40 साल के बीच है, तो आप इस योजना का लाभ उठा सकते हैं। योजना के तहत पेंशन पाने के लिए कम से कम 20 साल तक निवेश करना होगा। 60 साल की उम्र तक एक तय राशि निवेश करना होगा।

अगर 18 साल का युवा अटल पेंशन योजना (Atal Pension Yojana) से जुड़ता है, और उसे 5000 रुपये महीने पेंशन के लिए हर माह 210 रुपये निवेश करना होगा। वहीं केवल 1000 रुपये महीने पेंशन के लिए 18 साल के युवा को हर महीने 42 रुपये जमा कराने होंगे। इस स्कीम की सबसे बड़ी खासियत है कि इसमें निवेश का पैसा नहीं डूबता है।

Investment Money does Not Sink

अगर निवेशक 60 साल की उम्र से पहले अपनी राशि की निकासी चाहते हैं तो कुछ परिस्थितियों में यह संभव है। वहीं अगर पति की मौत 60 साल से पहले हो जाती है, तो फिर पत्नी पेंशन की सुविधा मिलेगी। पति-पत्नी दोनों की मृत्यु पर नॉमिनी को पूरा पैसा वापस मिल जाएगा।

अटल पेंशन योजना (Atal Pension Yojana) में अकाउंट ओपन करवाने के लिए आपके पास बैंक या फिर पोस्ट ऑफिस में अकाउंट होना चाहिए। इसके लिए आधार कार्ड और Active Mobile Number की जरूरत होगी।  इस स्कीम में पैसा जमा कराने के लिए मासिक, तिमाही और छमाही की सुविधा मिलती है। साथ ही ऑटो डैबिट की सुविधा मिलती है यानी पैसे अपने आप आपके अकाउंट से कट जाएंगे।

अटल पेंशन योजना (Atal Pension Yojana) में निवेश कर आप पेंशन पाने के साथ-साथ टैक्स भी बचा सकते हैं। इस स्‍कीम में निवेश कर आप डेढ़ लाख रुपये तक टैक्स बचा सकते हैं। ये छूट आयकर की धारा 80C के अंतर्गत मिलती है।