\u0932\u0917\u092D\u0917 5 \u0918\u0902\u091F\u0947 \u0924\u0915 \u0927\u0930\u0928\u093E \u0926\u0947\u0928\u0947 \u0915\u0947 \u092C\u093E\u0926 \u0932\u093F\u0916\u093F\u0924 \u0906\u0936\u094D\u0935\u093E\u0938\u0928 \u092A\u0930 \u092E\u093E\u0928\u0940 \u091B\u093E\u0924\u094D\u0930\u093E\u090F\u0902 !

“The world’s most advanced Real Content in Hindi”

  1. Home
  2. चर्चा में

लगभग 5 घंटे तक धरना देने के बाद लिखित आश्वासन पर मानी छात्राएं !

Rudra Rajesh Kundu, Yuva Haryana Hisar, 17 August 2019 हिसार के उकलाना के नजदीकी गांव प्रभुवाला में विज्ञान संकाय के हटाए जाने को लेकर नाराज छात्राओं ने 5 घंटे तक स्कूल को ताला जड़ रोष प्रदर्शन किया। छात्राओं के समर्थन में पूरा गांव एकजुट होकर स्कूल के मेन गेट पर...


लगभग 5 घंटे तक धरना देने के बाद लिखित आश्वासन पर मानी छात्राएं !

Rudra Rajesh Kundu, Yuva Haryana

Hisar, 17 August 2019 

हिसार के उकलाना के नजदीकी गांव प्रभुवाला में विज्ञान संकाय के हटाए जाने को लेकर नाराज छात्राओं ने 5 घंटे तक स्कूल को ताला जड़ रोष प्रदर्शन किया। छात्राओं के समर्थन में पूरा गांव एकजुट होकर स्कूल के मेन गेट पर विज्ञान संकाय की कक्षाएं लगातार लगाने की बात पर अड़ा रहा। लगातार 5 घंटे के धरने के बाद ब्लॉक शिक्षा अधिकारी कुलभूषण शर्मा मौके पर पहुंचे और कुलभूषण शर्मा के लिखित आश्वासन के बाद छात्राओं ने स्कूल का ताला खोला।

खंड शिक्षा अधिकारी कुलभूषण शर्मा ने बताया कि उन्हें गांव प्रभुवाला में विज्ञान संकाय की समस्या को लेकर छात्राओं द्वारा प्रदर्शन करने की बात का पता चला तो वह गांव के स्कूल में पहुंचे और उन्होंने बच्चों की समस्या सुनी। बच्चों की मांग थी कि उन्हें लिखित में आश्वासन दिया जाए तो बच्चों को लिखित में उनकी समस्या का आश्वासन दिया गया और इस समस्या को लेकर उच्च अधिकारियों से बातचीत करके जल्दी ही इसका समाधान करवाया जाएगा।

वहीं इस मामले में स्कूल प्रबंधन समिति प्रभुवाला के प्रधान संजय कुमार ने बताया कि गांव में विज्ञान संकाय की कक्षाएं तोड़े जाने का मामला सामने आया था। जिसे लेकर छात्राओं ने रोष प्रदर्शन किया। शिक्षा विभाग के खंड शिक्षा अधिकारी कुलभूषण शर्मा ने लिखित में छात्राओं का आश्वासन दिया। जिसके बाद स्कूल का ताला खोल दिया गया और अगर सोमवार तक इस समस्या का समाधान नहीं करवाया गया तो बच्चे दोबारा से प्रदर्शन करने को मजबूर होंगे।

लगभग 5 घंटे तक धरना देने के बाद लिखित आश्वासन पर मानी छात्राएं !