Yuva Haryana
हरियाणा के इन गांवों में बनेंगे कमल क्लब, जानिये क्या है हरियाणा सरकार की योजना ?
 

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने राष्ट्रीय युवा दिवस के मौके पर 52 नेशनल यूथ अवार्डी को खेल विभाग में रोजगार दिए जाने की घोषणा की है। इसके साथ-साथ उन्होंने 10 हजार से अधिक आबादी के 125 गांवों में कमल क्लब बनाकर युवाओं को जोड़ने का भी ऐलान किया। मुख्यमंत्री बुधवार को स्वामी विवेकानंद जयंती पर भारत विकास परिषद हांसी द्वारा आयोजित रक्तदान शिविर के कार्यक्रम में वर्चुअली बोल रहे थे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि कमल क्लब में अधिक से अधिक युवाओं को जोड़ा जाएगा, सबसे पहले 10 हजार की आबादी के गांव लिए जाएंगे, इसके बाद 8 हजार और फिर एक-एक करके इससे कम आबादी वाले गांवों में यह क्लब स्थापित किया जाएगा। इसका मकसद खेल और अन्य सामाजिक गतिविधियों से जोड़ना और युवाओं की क्षमता, बुद्धि व शक्ति को बढ़ाना है, ताकि वे जीवन में आगे बढ़ सकें।

उन्होंने कहा कि स्वेच्छिक सेवा के लिए आगे आने वाले युवाओं के लिए समर्पण पोर्टल बनाया गया है। इसमें अब तक 1300 युवाओं ने पंजीकरण करवा लिया है। इन युवाओं को समाज सेवा के कार्य दिए जाएंगे ताकि सामाजिक सेवा के प्रति संवेदनशील होने के साथ-साथ उनमें सेवाभाव भी जागृति हो। प्रदेश में 18 से 35 साल की आबादी लगभग 60 लाख है। इस युवा शक्ति का प्रयोग खेल, रोजगार, सरकारी व प्राइवेट सेवाओं, व्यवसाय के साथ-साथ सामाजिक सेवा में किया जाना चाहिए। युवाओं में असीम शक्ति और ऊर्जा होती है, जिसका प्रयोग देश की प्रगति में करना चाहिए।

डिग्री पास करने वाले युवाओं को दिया जा रहा मुफ्त पासपोर्ट
मुख्यमंत्री ने कहा कि हरियाणा सरकार युवाओं को देश ही नहीं विदेशों में भी अवसर प्रदान करने के लिए कार्य कर रही है। आज कॉलेज से डिग्री लेकर निकलने वाले युवाओं को मुफ्त में पासपोर्ट बनाया जा रहा है ताकि वे विदेश में जाकर अध्ययन व रोजगार कर सकें। सरकार युवाओं को नए-नए स्टार्टअप शुरू करने के लिए भी अवसर प्रदान कर रही है, ताकि उद्योगों को बढ़ावा मिल सके और नए-नए रोजगार पैदा हों। युवा शक्ति को आगे बढ़ाने के लिए हरियाणा सरकार पूरी तरह दृढ़ संकल्पित है।

स्वामी विवेकानंद ने दी युवाओं को नई दिशा
मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि स्वामी विवेकानंद युवा शक्ति के प्रेरणास्त्रोत रहे हैं। उन्होंने युवाओं का आह्वान किया था कि उठो, जागो और तब तक नहीं रूको, जब तक लक्ष्य की प्राप्ति न हो जाए। स्वामी विवेकानंद का असली नाम नरेंद्र था और आज भारत के प्रधानमंत्री भी श्री नरेंद्र मोदी हैं। दोनों ने समाज व देश की सेवा का संकल्प लिया।

नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री बनने से पहले एक सवाल के जवाब में कहा था कि उनका लक्ष्य नेताओं की छवि को सुधारना है। उन्होंने इस राह पर चलते हुए इस काम को करके दिखाया है। आने वाली पीढ़ियां उन्हें इस काम के लिए याद रखेंगी। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री के इस लक्ष्य को साकार करने के लिए अनेक युवा आगे आ रहे हैं।

खेल क्षेत्र में शीर्ष पर हरियाणा    
मुख्यमंत्री ने कहा कि हरियाणा सरकार ने 18 से 35 वर्ष के युवाओं को शिक्षा, संस्कार, स्किलिंग और खेलों से जोड़ने के लिए लगातार अभियान चला रखा है। हरियाणा खेलों का हब बना हुआ है। आज खेलों में देश के कुल मेडल में 35 से 50 प्रतिशत तक हरियाणा के खिलाड़ियों के आते हैं। सरकार खेल सुविधाओं को बढ़ा रही है और खेल बजट भी कई गुणा बढ़ाया है। हरियाणा के खेल मंत्री भी खुद खिलाड़ी हैं, जो युवाओं को प्रेरित कर रहे हैं।

रक्तदान से जुड़ता है रिश्ता
मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि रक्तदान सबसे ज्यादा प्रेरणादायक है। यह जीवन तो बचाता ही है लेकिन रिश्ता भी जोड़ता है। रक्त देने वाले और लेने वाले का पहले ग्रुप मिलाया जाता है और फिर दोनों का खून का रिश्ता बन जाता है। मनुष्य का रक्त मनुष्य को ही दिया जा सकता है। रगों में जैसा खून होता है, वैसा भाव बनता है। रक्त का कोई विकल्प नहीं होता। इसलिए युवाओं को ज्यादा से ज्यादा रक्तदान करना चाहिए, इससे लोगों का जीवन बचाया जा सकता है।

उन्होंने कहा कि भारत विकास परिषद 39 शाखाओं में 26 जनवरी तक लगातार रक्तदान शिविर आयोजित करेगी, जो एक सराहनीय कार्य है।