Yuva Haryana
Haryana Guest Teachers: हरियाणा में अतिथि अध्यापकों को तोहफा, सरकार ने मानी ये मांगे
 

हरियाणा के शिक्षा मंत्री कंवरपाल ने कहा कि अतिथि अध्यापकों को आयुष्मान भारत योजना के तहत पांच लाख रुपये का बीमा और सेवा नियम बनाने की मांग को  स्वीकार कर लिया गया है।

शिक्षा मंत्री ने आज समस्त अतिथि अध्यापक संघ के साथ हुई बैठक के बाद मीडिया से रूबरू होते हुए कहा कि अतिथि अध्यापकों के सेवा नियम एक सप्ताह के भीतर ही लागू कर दिए जाएंगे। उन्होंने कहा कि किसी अतिथि अध्यापक की मृत्यु हो जाने पर उसके परिवार को तीन लाख रुपये की राशि देने की घोषणा भी मुख्यमंत्री द्वारा की जा चुकी है।

उन्होंने कहा कि अतिथि अध्यापकों को उनकी शिक्षा व अन्य कार्यों के लिए साल में भत्ते के तौर एक बार 10 हजार रुपये की राशि दी जाएगी। इसके अलावा, उन्हें 20 आकस्मिक अवकाश दिए जाएंगे।

शिक्षा मंत्री ने कहा कि कम्प्यूटर अध्यापकों की मांगों जैसे कि मातृत्व लाभ व आकस्मिक अवकाश के साथ-साथ अन्य मागों को मान लिया गया है और ट्रान्सफर/एडजस्टमेंट के नियमों में बदलाव के लिए एसोसिएशन से राय ली जाएगी। इसके अलावा, ड्राईंग और पीटीआई टीचर को कौशल विकास निगम पोर्टल पर आवेदन करने के समय पर अनुभव को आधार मानते हुए आय में छूट दी गई है।

हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल से बुधवार को समस्त अतिथि अध्यापक संघ हरियाणा के पदाधिकारियों ने अपनी मांगों को लेकर मुलाकात की। मुलाकात बेहद सकारात्मक माहौल में हुई। इसके बाद अतिथि अध्यापकों ने मुख्यमंत्री को आश्वासन दिया कि वे अपना सांकेतिक धरना स्थगित कर देंगे।

बैठक में अतिथि अध्यापकों के सेवा नियमों को जारी करने के साथ-साथ शिक्षा व अन्य कार्यों के लिए साल में एक बार 10 हजार रुपये भत्ते के तौर पर दिए जाने की मांगों पर सहमति बनी। अतिथि अध्यापकों की मांग थी की उनसे जुड़े सेवा नियम जल्द से जल्द जारी किए जाएं। इसके अलावा उन्हें शिक्षा व अन्य कार्यों के लिए साल में एक बार 10 हजार रुपये भत्ते के तौर पर दिए जाएं।

अतिथि अध्यापकों की 20 आकस्मिक अवकाश दिए जाने की भी मांग थी। इन सभी मांगों पर सरकार और अतिथि अध्यापकों के बीच सहमति बनी है। अतिथि अध्यापकों का कहना था कि बैठक बेहद सकारात्मक माहौल में हुई, मुख्यमंत्री ने उनकी सभी बातों को ध्यानपूर्वक सुना। अतिथि अध्यापकों ने सांकेतिक धरना स्थगित करने का आश्वासन दिया है।