Yuva Haryana
नीरज चोपड़ा नाम तो सुना ही होगा, वर्ल्ड चैंपियनशिप में एक बार फिर नाम किया रौशन बदला 19 साल का रिकॉर्ड
 

हरियाणा : विश्व में भारत की शान बढ़ा चुके नीरज चोपड़ा ने मानो इस जीवन में ऊंचाइयों को छूने की और देश का नाम रौशन करने की कसम खाली है । हम ऐसा इसलिए कह रहें हैं क्योंकि  ओलिंपिक चैंपियन नीरज चोपड़ा ने विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप के जैवलिन थ्रो इवेंट का सिल्वर मेडल जीतते हुए एक बार फिर इतिहास रच दिया है। वह इस इवेंट में मेडल जीतने वाले पहले भारतीय बने है जिन्होंने अपने देश को मेडल दिलाया है ।
बता दें, उन्होंने 88.13 मीटर के अपने सर्वश्रेष्ठ थ्रो के साथ सिल्वर मेडल अपनी झोली में डाला। इसी के साथ ही 19 वर्ष बाद भारत को टूर्नामेंट में मेडल मिला है।
हालाकि इससे पहले 2003 में लॉन्ग जंपर अंजू बॉबी जॉर्ज ने विश्व चैंपियनशिप में ब्रॉन्ज मेडल जीता था। लेकिन अब नीरज चोपड़ा ने भी मेडल जीतकर तिरंगे की शान में चार चांद लगा दिए हैं ।

खेल की कुछ बातों को आपसे रूबरू करते हुए बताना चाहेंगे की नीरज चोपड़ा का पहला अटेम्प्ट फाउल रहा, जबकि दूसरे अटेम्प्ट में उनहोंने 82.39 मीटर का थ्रो किया। यह उनके सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन से काफी दूर था। दूसरी ओर, ग्रेनाडा के एंडरसन पीटर्स ने पहले ही अटेम्प्ट में 90 मीटर को पार कर लिया। उन्होंने लगातार दो अटेम्प्ट में 90.21 और 90.46 मीटर का थ्रो करते हुए अपना मेडल पक्का कर लिया।

बता दें, इसके बाद भी अब नीरज चोपड़ा थम कर बैठने वालों में से नहीं हैं आए दिन और भी प्रतियोगिताओं में हिस्सा लेते हुए अब उनका सपना है वर्ल्ड चैंपियन बनने का लेकिन इसी बीच एक और खिलाड़ी जो नीरज को टक्कर दे रहा है उसका सामना करना नीरज के लिए आसान नहीं होगा ।

जानकारी के लिए बताना चाहेंगे ,उल्लेखनीय है कि एंडरसन पीटर्स कई बार नीरज चोपड़ा से पटखनी खा चुके हैं, लेकिन इस साल वह बेहतरीन लय में हैं। स्टॉकहोम डायमंड लीग में नीरज और पीटर्स की भिड़ंत हुई। 89.94 मीटर का थ्रो कर नीरज ने नेशनल रिकॉर्ड बनाया, लेकिन पीटर्स ने 90.31 मीटर का थ्रो किया और गोल्ड मेडल अपने नाम कर लिया। नीरज चोपड़ा को सिल्वर से संतोष करना पड़ा। इसी साल दोहा डायमंड लीग में एंडरसन पीटर्स ने 93.07 मीटर का थ्रो कर दिया था। 
भारतीय खिलाड़ी नीरज चोपड़ा अपनी जी जान से मेहनत कर रहे हैं और अब उनका सपना है वर्ल्ड चैंपियन बनने का जिसे हासिल करने के लिए उन्हें कड़ी मेहनत करनी होगी।