Yuva Haryana
हरियाणा के इन शहरो में हो रही है झमाझम बारिश की चेतावनी, मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट
 
मानसून की ट्रर्फ रेखा उत्तर की ओर शिफ्ट होने के कारण उत्तर भारत में वर्षा गतिविधियों में वृद्धि का दौर जारी है। इस स्थिति का अर्थ यह है कि समुद्र का स्तर अपनी सामान्य स्थिति के करीब चला जाता है। लिहाजा, अब अगले दो-तीन दिन के दौरान इसके उत्तर की ओर बढ़ने का सिलसिला जारी रहने की संभावना बनी हुई है। ऐसे में 31 जुलाई तक हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, उत्तरी पंजाब, उत्तर हरियाणा व चंडीगढ़ में भी तेज वर्षा का दौर जारी रहेगा। इन राज्‍यों में भी अलर्ट वहीं, मौसम की मौजूदा स्थिति के तहत एक चक्रवाती परिसंचरण राजस्थान के मध्य भागों में और दूसरा आंध्र प्रदेश तट पर पश्चिम-मध्य बंगाल की खाड़ी के ऊपर निचले क्षोभमंडल स्तर पर बना हुआ है। इस आधार पर एक ताजा पश्चिमी विक्षोभ द्वारा 28 जुलाई से पश्चिमी हिमालयी क्षेत्र को प्रभावित करने की संभावना है। वहीं इन प्रणालियों के व्यापक प्रसार के तहत अब 29 जुलाई तक जम्मू-कश्मीर में कहीं छिटपुट तो कहीं गरज के साथ वर्षा और बिजली गिरने के आसार हैं। इसी तरह 31 जुलाई तक हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, उत्तरी पंजाब, उत्तर हरियाणा व चंडीगढ़ में भी तेज वर्षा का दौर जारी रहेगा।
3 से 4 दिन बूंदाबांदी के साथ मध्‍यम बारिश पश्चिम उत्तर प्रदेश में 28 से 31 जुलाई के दौरान, पूर्वी उत्तर प्रदेश में 28-30 जुलाई तक तेज वर्षा हो सकती है। उत्तरी पंजाब, उत्तरी हरियाणा-चंडीगढ़ और हिमाचल प्रदेश से लेकर उत्तराखंड भी कमोबेश यही स्थिति नजर आ रही है। देश के अन्य हिस्सों की बात करें तो अगले तीन-चार दिन के दौरान मध्य, पश्चिम, पूर्व व दक्षिण भारत में गरज और बिजली के साथ कहीं व्यापक और कहीं मध्यम वर्षा जारी रहने की संभावना है। गुजरात क्षेत्र, छत्तीसगढ़, विदर्भ और पूर्वी मध्य प्रदेश में भी बारिश का दौर है। जबकि झारखंड, बिहार, तेलंगाना, रायलसीमा और तटीय आंध्र प्रदेश सहित तमिलनाडु, पुदुचेरी और कराईकल भी वर्षा प्रभावित क्षेत्रों में शामिल हैं। बिहार को लेकर मौसम पूर्वानुमान चिंताजनक 30 और 31 जुलाई को बिहार में अलग-थलग भारी वर्षा की संभावना है। इसके अलावा उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल और सिक्किम, अरुणाचल प्रदेश, असम और मेघालय और नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम और त्रिपुरा में तेज बारिश और गरज के साथ बिजली गिरने की संभावना है। असम, मेघालय और अरुणाचल प्रदेश में 30 और 31 जुलाई को वर्षा गतिविधियां जोरों पर रहेंगी।