Yuva Haryana
गेहूं खरीद पर नहीं रुक रही मार्केट फीस की चोरी, बहादुरगढ़ में पकड़ी 100 क्विंटल गेहूं
 

इस बार सरकारी खरीद की बजाय निजी खरीद खूब की जा रही है. किसानों को एमएसपी से भी अधिक मूल्य दिया जा रहा है. इसी के चलते मंडियों से बाहर भी खरीद और टैक्स की चोरी की संभावना को भांपकर प्रदेश भर में मार्केटिंग बोर्ड की ओर से 14 स्थानों पर राज्य की सीमाओं पर नाके लगाकर दिन-रात निगरानी की जा रही है. 

गेहूं खरीद

इसी कड़ी में बहादुरगढ़ के झाड़ौदा बार्डर पर शनिवार को 100 क्विंटल गेहूं लेकर जा रही एक गाड़ी को यहां पर पकड़ा लिया गया. उसकी बिलिंग को लेकर मामला उलझ गया.यह कहा गया कि यह तो किसान का गेहूं है. मगर शाम तक किसान नहीं पहुंचा था. 
प्रदेश में गेहूं की खरीद पर दो प्रतिशत मार्केट फीस और दो प्रतिशत एचआरडीएफ देना होता है. गेहूं पर कोई जीएसटी नहीं है. मान लीजिए किसी व्यापारी ने यदि किसान से 2100 रुपये प्रति क्विंटल की देर से गेहूं खरीदा है तो उस पर 84 रुपये प्रति क्विंटल के हिसाब से सरकार को देने होते हैं. इस बार मंडियों में पिछले साले की अपेक्षा गेहूं कम आया है इसलिए मार्केटिंग बोर्ड की ओर से प्रदेश में 14 जगहों पर नाके लगातार चेकिंग कर रहा है. तीन शिफ्टों में पुलिस की मदद से ये नाके चल रहे हैं.
गेहूं
झज्जर में झाड़ौदा बार्डर, सोनीपत में ओचंदी बार्डर व कुंडली बार्डर, फरीदाबाद में मथुरा रोड, सिरसा में भठिंडा रोड, हनुमानगढ़ रोड व तलवंडी रोड, फतेहाबाद में रतिया रोड, नोहर रोड जाखल रोड व टोहाना चंडीगढ़ रोड, कैथल में कलायत रोड, चीका रोड और जींद के नरवाना में डाटा सिंह गांव में नाके लगाए गए हैं.