Yuva Haryana
इस तारीख से शुरू होने जा रहा है भोलेनाथ का महीना, जानिए कैसे करें महादेव को प्रसन्न
 
भगवान शिव जी का प्रिय महीना सावन 14 जुलाई से शुरू होगा।‌ यह महीने भोलेनाथ को समर्पित होता है। ज्योतिषी शास्त्र के अनुसार इस महा महादेव अपने भक्तों पर जल्द प्रसन्न होते हैं । मान्यता है कि अगर कोई जातक सावन महीने में पूरी श्रद्धा के साथ व्रत रखता है, तो उसे भगवान शंकर का आशीर्वाद प्राप्त होता है। हर साल श्रद्धालु महेश्वर को खुश करने के लिए कावड़ यात्रा निकालते हैं। सावन के इस पवित्र महीने में शिव भक्त कावड़ यात्रा आयोजित करते हैं। जिसमें लाखों भक्त शंभ्भू को खुश करने के लिए हरिद्वार और गंगोत्री धाम की यात्रा करते हैं। इन तीर्थ स्थलों से गंगाजल से भरी कावड़ को अपने कंधों पर रखकर पैदल लाते हैं। फिर गंगाजल भगवान शिव जी को चढ़ाया जाता है। इस यात्रा को कावड़ यात्रा कहते हैं।पहले लोग पैदा ही कावड़ यात्रा करते थे, हालांकि वक्त बदलने के साथ-साथ बाइक, गाड़ी, अन्य साधनों का इस्तेमाल करने लग गए हैं।
पौराणिक कथा के अनुसार जब देवताओं और असुरों के बीच समुंद्र मंथन चल रहा था। उस मंथन से 14 रत्न निकले थे। उनमें एक हलाहल विष भी था। जिससे संसार को नष्ट होने का डर था। उस समय सृष्टि की रक्षा के लिए शिवजी ने उस विष को पी लिया, लेकिन अपने गले से नीचे नहीं उतारा। जहर में प्रभाव से भोलेनाथ का गला नीला पड़ गया इस वजह से उनका नाम नीलकंठ पड़ गया कहा जाता है, कि रावण कांवर से गंगाजल लेकर आया था उसी जल से उसने शिवलिंग की अभिषेक किया तब जाकर शिव जी को विष से राहत मिली।