Yuva Haryana
हरियाणा सीएम से मिले दिल्ली के नेता, बोले इंसानियत के नाते ही पानी दे दीजिए
 
दिल्ली में चल रहे पानी के संकट और उस पर हो रही राजनीति के बीच रविवार की सुबह प्रदेश अध्यक्ष आदेश गुप्ता की अगुवाई में दिल्ली बीजेपी के नेताओं का एक प्रतिनिमंडल हरियाणा भवन पहुंचा और वहां मौजूद हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर से मिला। बीजेपी नेताओं ने खट्टर को एक ज्ञापन सौंपते हुए दिल्ली में पानी की भारी किल्लत का हवाला देते हुए राजधानी के लिए तय करार से थोड़ा और ज्यादा पानी छोड़ने का अनुरोध किया।पिछले हफ्ते सीएम अरविंद केजरीवाल ने हरियाणा सरकार से अपील की थी कि इंसानियत के नाते ही सही, वह दिल्ली को अतिरिक्त पानी मुहैया कराएं। सीएम ने एलजी वी.के. सक्सेना से भी अनुरोध किया था कि वह इस संबंध में हरियाणा के सीएम से बात करें। वहीं, दिल्ली जल बोर्ड के उपाध्यक्ष सौरभ भारद्वाज लगातार पानी की किल्लत के लिए हरियाणा सरकार को जिम्मेदार ठहराते हुए दावा कर रहे थे कि हरियाणा की तरफ से कम पानी छोड़ने के कारण ही दिल्ली में यह संकट पैदा हुआ है।हरियाणा सरकार पर भी अतिरिक्त पानी छोड़ने के लिए चौतरफा दबाव बन रहा था। माना जा रहा था कि कि अगले कुछ दिनों में हरियाणा सरकार दिल्ली को अतिरिक्त पानी देने के लिए राजी हो सकती है। ऐसे में दिल्ली बीजेपी के नेताओं की खट्टर से अचानक हुई इस मुलाकात को एक सोची समझी राजनीतिक चाल भी माना जा रहा है, ताकि जब दिल्ली को अतिरिक्त पानी मिले, तो उसका क्रेडिट बीजेपी को भी मिल सके और राजेंद्र नगर विधानसभा उप-चुनाव में उसका फायदा भी उठाया जा सके, जहां बीजेपी पानी के संकट को एक बड़ा मुद्दे के रूप में उठा रही है।
दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष ने केजरीवाल पर साधा निशाना
खट्टर से मुलाकात के बाद दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष आदेश गुप्ता के बयान में भी यह बात साफ नजर आई। उन्होंने पानी के संकट के लिए पूरी तरह दिल्ली सरकार को जिम्मेदार ठहराते हुए कहा कि अरविंद केजरीवाल ने जल बोर्ड का सत्यानाश कर दिया है। अगर वह दिल्ली में हो रही पानी की 30 पर्सेंट लीकेज को ही बचा लें, तो पानी की किल्लत दूर हो जाएगी। जब भी कोई संकट आता है, तो वह सारा दोष केंद्र या दूसरे राज्यों की सरकार या एमसीडी पर मढ़ देते हैं। अपनी नाकामी को छुपाने के लिए वह जनता से यही कह रहे हैं कि हरियाणा पानी नहीं दे रहा है, जबकि पिछले 7 सालों में हरियाणा ने कभी दिल्ली को तय करार से कम पानी नहीं दिया, बल्कि उससे ज्यादा ही दिया है। इसके लिए उन्हें हरियाणा सरकार को धन्यवाद करना चाहिए।