Yuva Haryana
हरियाणा में लगातार चल रहा है फर्जी मार्कशीट का खेल, बेरोजगार युवाओं से ठगे लाखो
 

हरियाणा में फर्जीवाड़ा लगातार फैलता जा रहा है ऐसे में भोले भाले युवकों को फंसाकर उनसे लाखों रुपए ऐंठने का कार्य एक गिरोह करता हुआ नजर आ रहा है। भोले भाले युवको को मुक्त विद्यालय शिक्षा परिषद हरियाणा की 10वीं और 12वीं की मार्कशीट बनाने का दिलासा देकर उनसे लाखों रुपए ठग लिए गए। यह गिरोह भोले भाले युवकों को दिलासा देते थे कि उन्हें यह लोग दसवीं और बारहवीं की अच्छे नंबर की मार्कशीट  दिला देंगे। नंबरों के हिसाब से उनसे पैसे लिए जाते थे जितने नंबर उन्हें चाहिए होते थे उसी हिसाब से उनसे पैसे वसूले जाते थे।

गिरोह के सरगना पुलिस के बर्खास्त सिपाही रोहतक के पवन राणा ने अपने गिरोह के गुर्गों को अलग-अलग शहरों में छोड़ रखा था। अभी तक कई शहर जैसे कि पानीपत, सोनीपत , रोहतक, झज्जर और अन्य शहर जिनमें 700 युवकों को फर्जी मार्कशीट बांट दी गई है। पुलिस ने सरगना पवन को जेल भेज दिया है। आपको बता दें कि यह मामला करनाल टोल प्लाजा पर काम करने वाले कुरुक्षेत्र के मीरपुर गांव के बलवान ने बताया कि उसको 12वीं की मार्कशीट की जरूरत थी।जिसके लिए वह 12वीं की मार्कशीट बनवाने के लिए घूम रहा था। तब उसे पता चला कि हरीश मित्तल नामक व्यक्ति पानीपत के राम लाल चौक के पास पुराने कोर्ट पर ग्लोबल एजुकेशन नाम से कार्यालय चलाता है।

जो बारहवीं की परीक्षा ओपन से दिलाता है। मित्तल ने उस व्यक्ति से डेढ़ लाख रुपए परीक्षा के नाम पर ले लिए और उसको बिना परीक्षा दिला है।12वीं की मार्कशीट दे दी जब उन्होंने मार्कशीट की जांच करवाई तो वह मार्कशीट फर्जी निकली।
पुराना औद्योगिक थाना पुलिस ने मामला दर्ज किया। सीआइए-टू आरोपित हरीश मित्तल को गिरफ्तार कर जेल भिजवा चुकी है। हरीश ने पुलिस को बताया था कि वह 70 मार्कशीट रोहतक सके पवन राणा से लेकर आया था। इसके बाद ही पुलिस ने गिरोह के सरगना पवन राणा को गिरफ्तार किया।


क्राइम इन्वेस्टिगेशन एजेंसी से वीरेंद्र ने बताया कि पवन राणा के गिरोह को पकड़ लिया गया है लेकिन उसका एक सदस्य है जिसकी तलाश अभी भी जारी है गिरफ्तारी के बाद ही उनको कुछ पता चल पाएगा उसने बताया कि गिरफ्तारी के बाद ही पता चल पाएगा की उन्होंने किस किस को फर्जी मार्कशीट दी हैं और युवकों से कितने पैसे ठगे गए है। कहीं युवक फर्जी मार्कशीट के बूते नौकरी तो नहीं लग गए हैं।