Yuva Haryana
मेट्रो ट्रेन में बरती जाएगी सख्ती, मास्क ना लगाने पर होगी कार्यवाही, कटेंगे चालान
 

कोरोना के केसों में इजाफा होने के बाद मेट्रो में मास्क को लेकर अब सख्ती बढ़ रही है। वैसे तो मेट्राे में मास्क अनिवार्य है, लेकिन अब निगरानी बढ़ाकर चालान कार्रवाई तेज की जा रही है। इसके लिए कई टीमें गठित की गई हैं। दिल्ली पुलिस और सीआइएसएफ की टीमों ने मेट्रो के अंदर और स्टेशनों पर बारीकी नजरें टिका ली हैं।

दरअसल, बहादुरगढ़ में तो अभी न के बराबर केस हैं, लेकिन यहां से मेट्रो के जरिये लोगों का दिल्ली में आना-जाना खूब होता है। दिल्ली कि इसी आवाजाही से केस बढ़ने की संभावना दी है।

चूंकि मेट्रो में शारीरिक दूरी कम रहती है इसी के चलते केस बढ़ने की संभावना भी ज्यादा है। यात्रियों की संख्या को लेकर तो अभी कोई पाबंदी नहीं है, लेकिन मास्क अनिवार्य है। इस पर जो यात्री लापरवाही बरत रहे हैं, उन पर अब कार्रवाई तेज की जा रही है। ताकि लोग मेट्रो के अंदर ही नहीं बल्कि स्टेशनों पर भी पूरी तरह मास्क पहने। दिल्ली जाने वाले अन्य वाहनों में तो अभी मास्क को लेकर कोई गंभीरता नहीं दिखती।

सार्वजनिक स्थलो पर भी कोरोना से बचाव को लेकर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है। मेट्रो में अगर पिछले दो साल के अंदर कुछ दिनों को छोड़ दें तो बाकी समय में मास्क अनिवार्य रहा है। विगत में जब कोरोना के केस कम हुए तो उसके बाद दिल्ली में मास्क को लेकर अनिवार्यता खत्म हो गई थी।

उस समय यात्रियों के विवेक पर ही छोड़ा गया था कि वह मास्क पहने या नहीं लेकिन मेट्रो में सलाह के तौर पर यह उद्घोषणा लगातार होती रही थी कि मास्क पहनें। बाद में जब केस बढ़े और लोगों ने तब भी मास्क के प्रति गंभीरता नहीं दिखाई उस समय मेट्राे में दोबारा से मास्क अनिवार्य किया गया।

आमतौर पर लोग मास्क तो लगा लेते हैं लेकिन उसको मुंह और नाक से नीचे खिसका लेते हैं। ऐसी स्थिति में मास्क न के बराबर होता है। इसी पर अब निगरानी बढ़ाई गई है।