Yuva Haryana
जल्द निजी अस्पतालों में भी उपलब्ध कराई जाएगी यह अनोखी एंबुलेंस, पहाड़ों में सुविधा दे रही सेना के लिए हुई उपलब्ध
 
पहाड़ी क्षेत्रों में सेना के आपरेशन के दौरान अगर कोई दुर्घटना हो जाए तो उन्हें कैंपस तक लाने में काफी जिद्दोजहद करनी पड़ती है। इस समस्या के समाधान के लिए रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) के दिल्ली स्थित 
नाभिकीय औषधि तथा संबद्ध विज्ञान संस्थान (इनमास) और केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) ने एक बाइक एंबुलेंस बनाई थी तब उसका प्रयोग सेना के लिए करना था लेकिन अब उस तकनीकि को प्राइवेट कंपनी के माध्यम से प्राइवेट सेक्टर में भी लाया जाएगा | 
जी हा आपको बता दें कि हिसार में एस्पाइरिंग हरियाणा 2022 प्रदर्शनी आयोजित हुई जिसमें विज्ञानियो ने सीआरपीएफ द्वारा निर्मित बाइक एंबुलेंस के बारे में जानकारी दी गई, इस प्रोजेक्ट पर कंपनियों से हाल ही में टेक्नालाजी ट्रांसफर के लिए आवेदन भी मांग लिए गए है | प्रावइेट कंपनी के पास टेक्नालाजी जाने से अब इसका निर्माण प्राइवेट तौर पर भी हो सकेगा |
जिन क्षेत्रों में जहां एंबुलेंस नहीं पहुंच पाती है वहां पर मरीज को बाइक एंबुलेंस से नजदीकी अस्पताल तक लाया जा सकेगा |
आपको यह भी बता दें कि बाइक एंबुलेंस के निर्माण के बाद इसे सिक्योरिटी फोर्स सीआरपीएफ को हैंडओवर कर दिया गया था |
देश के पहाड़ी क्षेत्रों में आज भी मरीजों को पैदल लाना पड़ता है |
क्योंकि अभी भी कई क्षेत्र ऐसे हैं जहां पर अगर कोई बीमार हो जाए तो लोगों को उस मरीज को नजदीकी अस्पताल तक लाने में पसीने छूट जाते हैं, इस कारण के चलते कई स्थानों पर तो लोग सुदूर क्षेत्रों से पलायन भी कर चुके हैं | इसके साथ ही कई प्रसूताओं की जान भी चली गई है, ऐसे में बाइक एंबुलेंस ऐसे क्षेत्रों में अपना रोल बखूबी निभाएगी | यह बाइक पहाड़ी क्षेत्रों पर अच्छे से कार्य करती है और मरीज को भी अधिक दिक्कत नहीं होने देती है |