Yuva Haryana
सिद्धू मुसेवाला की हत्या प्रकरण का उपचुनाव पर पड़ेगा असर, लोगो की भावना से जुड़ा है मुद्दा
 

पंजाबी सिंगर सिद्धू मुसेवाला की मौत से दुनिया भर में रहने वाले पंजाबी वर्ग हतप्रद है वही लोगो के दिनो मे आक्रोश अपने चरम पर है । इस घटना से पंजाबी सियासत में बदलाव की बयार चलो सकती है । 23 जून को संगरूर लोकसभा सीट के लिए होने वाले उपचुनाव पर गहरा असर पड़ता दिखाई देने की संभावना है। संगरूर उपचुनाव समेत पंजाब की सियासत पर सिद्दू मूसे वाला हत्याकांड बुद्ध तमाम मुद्दों पर भारी पड़ता दिखाई दे रहा है उपचुनाव में विपक्षी दलों को सत्ताधारी पार्टी पर हमला बोलने का पूरा मौका मिल गया है यह बड़ा मुद्दा होने के साथ-साथ लोगों की भावनाओं के साथ भी जुड़ा हुआ है।


इस मुद्दे पर पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान को घेरने की तैयारी विरोधी दलों ने कर दी है और सरकार के खिलाफ तीखी बयानबाजी का दौर भी शुरू हो गया है। इतिहास इस बात का गवाह रहा है कि इस इलाके के लोग बड़े ही संवेदनशील है और बदलाव करने में देरी नहीं लगाएंगे आपके लिए नई सुबह का आगाज इस इलाके ने किया था।

मुख्यमंत्री मान इस लोकसभा सीट से 2 बार बड़े अंतर से जीत हासिल कर चुके हैं। अकाली दल अमृतसर की सियासत को इसी इलाके में धार दी थी। अभिनेता दीप सिद्धु की मौत का असर संगरूर बरनाला जिलों में हाल ही में विधानसभा चुनाव में साफ देखने को मिला ।


तब शिअद अमृतसर दीप सिद्धू मुद्दे को लेकर युवा वोटरों को अपने पक्ष में करने में सफल रहा था । अमरगढ़ विधानसभा क्षेत्र  में चुनाव लड़ने वाले अकाली दल अमृत सर के अध्यक्ष सिमरनजीत सिंह मान तब 38 हजार मत हासिल कर दुसरे स्थान पर रहे थे। संगरूर लोकसभा उपचुनाव के लिए पूर्व सांसद सिमरनजीत सिंह मान फिर ताल ठोकेंगे।
दो बार सांसद भवन में पहुंचने वाले सिमरनजीत सिंह मान 1999 में संगरूर लोक सभा चुनाव जीत चुके हैं उनके चुनाव मैदान में होने से बड़े उलटफेर होने की संभावना बनी रहती है।