Yuva Haryana
अब स्पेशलिस्ट डॉक्टर्स की कमी को पूरा करेंगे फैमिली मेडिसिन, देश में 18 हजार स्पेशलिस्ट डॉक्टर्स के पद खाली होने से आ रही समस्या
 
देश में स्पेशलिस्ट डॉक्टर्स की कमी का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि कुल 18 हजार पद आज भी खाली पड़े हैं. अब इस कमी को फैमिली मेडिसिन पूरा करेंगे. देश के छह एम्स में इन मेडिसिन को तैयार किया जाएगा. इनमें पटना, भोपाल, जोधपुर, रायपुर, भुवनेश्वर और जोधपुर एम्स शामिल हैं. अहम बात यह है कि इन्हें नौकरी की गारंटी देने की भी योजना बनाई जा रही है. 
यह फैसला केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय और नीति आयोग के अधिकारियों के बीच हुई एक बैठक के दौरान हुआ है. इन डॉक्टर्स को एमबीबीएस के बाद पोस्ट ग्रेजुएशन में 4 से 5 विभागों की पढ़ाई कराई जाएगी. फैमिली मेडिसिन में स्त्री और प्रसूति रोग, सर्जरी, शिशु रोग और जनरल मेडिसिन की पढ़ाई कराई जाएगी. 
ऐसा पाठ्यक्रम तैयार किया जाएगा जिसके बाद डॉक्टर्स इन विभाग की किसी भी मरीज का इलाज कर सकेंगे. यह उद्देश्य रखा गया है कि स्थिति गंभीर होने के बाद भी मरीज को स्पेशलिस्ट के पास भेजना पड़ेगा अन्यथा फैमिली मेडिसिन की देखरेख में ही इलाज चलेगा. इसके अतिरिक्त प्रत्येक एम्स में दो से तीन सीटें महिलाओं के आरक्षित रहेंगी. बता दें कि देश में स्पेशलिट डॉक्टर्स के 18 हजार पद आज भी खाली पड़े हैं. वहीं 10 हजार से ज्यादा सर्जन, गाइनोकोलोजिस्ट, 
फिजिशियन और पिडियाट्रिक्स के पद खाली हैं.