Yuva Haryana
अपने पैतृक गाँव के घर में दफनाए जायेंगे शहीद डीएसपी सुरेंद्र सिंह बिश्नोई, बारिश के कारण हो रही देरी
 

हरियाणा के नूंह जिले में खनन माफिया द्वारा डंपर से कुचले जाने से शहीद हुए डीएसपी सुरेंद्र सिंह बिश्नोई को आज राजकीय सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी जाएगी. उनके पैतृक गांव सारंगपुर में खेतों में बने ढाणी में ही बिश्नोई समाज के रीति रिवाज के साथ उनके पार्थिव शरीर को दफनाया जाएगा. भारी बारिश के चलते अंतिम विदाई में देरी हो रही. इलाके में सुबह से भारी बारिश हो रही. जेसीबी द्वारा घर बनाया जा रहा है, जिसमें शहीद डीएसपी सुरेंद्र को दफनाया जाएगा.
भारी बारिश के चलते अंतिम विदाई में देरी हो रही.

इलाके में सुबह से भारी बारिश हो रही. जेसीबी द्वारा घर बनाया जा रहा है, जिसमें शहीद डीएसपी सुरेंद्र को दफनाया जाएगाबिश्नोई समाज के रीति रिवाज के अनुसार जमीन में बनाए जाने वाले घर की 6 फुट गहराई सवा 6 फुट लंबाई और 3 फुट चौड़ाई होती है. राजकीय सम्मान के साथ शहीद को अंतिम विदाई दी जाएगी .

शहीद सुरेन्द्र के सारंगपुर गांव के स्कूल में राजकीय सम्मान और श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया जाएगा. बता दें कि बिश्नोई समाज में मृतक को दफनाया जाता है. वहीं शहीद डीएसपी सुरेंद्र सिंह का बेटा सिद्धार्थ कनाडा से आ गया है.शहीद के भाई अशोक बिश्नोई ने बताया कि शहीद सुरेंद्र सिंह को उनके हिस्से में आई जमीन में मिट्‌टी दी जाएगी. बिश्नोई समाज में मृतक को दफनाया जाता है, जिसे कि सामाजिक रीत अनुसार मिट्‌टी देना कहा जाता है. हमारे परिवार का नियम है कि व्यक्ति की मौत के बाद उसे उसकी जमीन में ही मिट्टी दी जाती है.