Yuva Haryana
प्रदेश के संस्कृति स्कूलों की फीस को लेकर शिक्षा निदेशालय में जारी किया पत्र
 
शिक्षा निदेशालय की ओर से प्रदेश के सभी राजकीय मॉडल स्कूलों की फीस और सेक्शन को लेकर पत्र जारी कर दिया गया है. पत्र में लिखा है कि जिन यदि संस्कृति मॉडल स्कूल के आसपास अन्य कोई राजकीय विद्यालय नहीं है तो उनमें अंग्रेजी के साथ साथ हिंदी मीडियम की पढ़ाई भी कराई जाएगी. 
वहीं अंग्रेजी मीडियम के अतिरिक्त एक सेक्शन हिंदी मीडियम का बनाने के निर्देश दिए गए हैं. 
विद्यालय विकास निधि के तौर पर इन बच्चों से फीस भी वसूली जाएगी. अहम बात यह है कि जिन बच्चों की सालाना पारिवारिक आय 1.80 लाख से कम है उन्हें कोई फीस नहीं देनी होगी. 
बता दें कि इससे पहले प्रदेश के सभी संस्कृति मॉडल स्कूलों में मात्र अंग्रेजी माध्यम से ही पढ़ाई होती थी और बच्चों से फीस भी ली जाती थी. फीस की छूट में सालाना आय जैसी कोई शर्त नहीं रखी गई थी. विदित हो कि प्रदेश के प्रत्येक जिले में कम से कम एक राजकीय संस्कृति मॉडल स्कूल जरूर बना हुआ है. कुछ जिलों में लड़के और लड़कियों के लिए अलग अलग संस्कृति मॉडल स्कूल बने हुए हैं.