Yuva Haryana
कुलदीप बिश्नोई के परिवार ने खोला हुड्डा के खिलाफ मोर्चा, समर्थको ने बुलाई बैठक
 
हाल ही में कांग्रेस में चल रही उठापटक के कारण कई बड़े फैसले लिए गए कांग्रेस पार्टी में सभी पदों से हटाए गए कुलदीप बिश्नोई के समर्थन में उनका पूरा परिवार आ खड़ा हुआ है। अब उनकी पत्नी रेणुका बिश्नोई, बेटा भव्य और बेटी सिया ने सोशल मीडिया पर भूपेंद्र सिंह हुड्डा समेत विरोधियों के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। वहीं, बिश्नोई ने 14 और 15 जून को हिसार में अपने समर्थकों की बैठक बुलाई है।
इन बैठकों के बाद ही बिश्नोई घोषणा करेंगे कि वह कांग्रेस छोड़कर भाजपा का दामन थाम रहे हैं या नहीं। हालांकि, बिश्नोई मुख्यमंत्री मनोहर लाल से भी मिल चुके हैं और सीएम उनका भाजपा में स्वागत भी कर चुके हैं
रविवार को कुलदीप बिश्नोई ने शेरो-शायरी से विरोधियों पर निशाना साधा। उन्होंने ट्वीट किया कि यदि तुम आसमान में बाज के साथ उड़ना चाहते हो तो बत्तख के साथ तैरना छोड़ दो। इससे पहले बिश्नोई ने रात को सोशल मीडिया पर लिखा कि कांग्रेस में कुछ नेताओं के लिए नियम हैं तो दूसरों के लिए अपवाद भी हैं। इसी प्रकार, कुलदीप बिश्नोई के बेटे भव्य बिश्नोई ने सोशल अकाउंट पर गांधी परिवार के साथ फोटो शेयर किया है। गौर हो कि अभी भी कुलदीप बिश्नोई के ट्वीट अकाउंट पर गांधी परिवार के सदस्यों की तस्वीर लगी हैस्याही कांड वाले भी बोल रहे हैं: सिया बिश्नोई
कांग्रेस ने क्रॉस वोटिंग पर कुलदीप बिश्नोई को निष्काषित कर दिया।
सिया बिश्नोई ने ट्वीट किया कि जिन्होंने खुद स्याही कांड किया, आज वे भी बोल रहे हैं। क्या 2016 में स्याही कांड करने वालों पर आज तक कोई कार्रवाई हुई? अगर नहीं तो क्यों नहीं, किस के दबाव में आकर कार्रवाई नहीं हुई। कांग्रेस पार्टी में हर किसी के लिए अलग-अलग नियम क्यों? रेणुका बिश्नोई ने सोशल मीडिया पर लिखा है कि आस्तीन का सांप कौन है, जिसका वोट रद्द हुआ और इस वजह से अजय माकन हारे। उस पर कार्रवाई कौन करेगा या ऐसे ही पार्टी खत्म करते रहेंगे। 
चंद्रमोहन विदेश से लौटे, साधी चुप्पी
फिलहाल कुलदीप बिश्नोई के बड़े भाई चंद्रमोहन कांग्रेस में हैं और पूर्व डिप्टी सीएम भी रह चुके हैं। रविवार को वह विदेश भ्रमण से पंचकूला पहुंच गए। कुलदीप को पदों से हटाए जाने के बाद सवाल पर उन्होंने कोई टिप्पणी नहीं की है। चंद्रमोहन ने कहा कि इस पर बाद में टिप्पणी देंगे। देखना यह है कि वह अपने भाई के साथ जाएंगे या फिर कांग्रेस में ही रहेंगे?