Yuva Haryana
अगर हरियाली तीज पर आप भी बेटी के घर भेज रहे हैं सिंधारे का सामान, तो रखिए इन बातों का विशेष ध्यान
 

हिंदू धर्म में सावन का महीना में बेहद ही खास होता है और हर कोई इसका बेसब्री से इंतजार भी करता है। इस महीने में सावन के सोमवार का व्रत और रक्षाबंधन के साथ ही हरियाली तीज का भी विशेष महत्व है। हिंदू पंचांग के अनुसार सावन महीने के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को हरियाली तीज मनाई जाती है जिसे कई क्षेत्रों में हर तालिका तीज के नाम से भी जाना जाता है। हरियाली तीज के दिन महिलाएं व्रत उपवास करती हैं और अपने पति की लंबी आयु के लिए आशीर्वाद मांगते हैं। महिलाओं के लिए हरियाली तीज पर मायके से सिधारा भी आता है। आषाढ़ महीने के शुक्ल पक्ष की तृतीया को हरतालिका तीज मनाई जाती है। जो कि इस साल 31st जुलाई 2022 को सुबह 6:30 पर शुरू होगी। ऐसे में जो महिलाएं इस दिन व्रत करती हैं। उनके लिए पूजा का शुभ समय सुबह 6:00 बजे 30 मिनट से लेकर 8:00 बजकर 33 मिनट तक है। 


हर शादीशुदा महिला को हरियाली तीज पर मायके से आने वाले का सिंधारे  का बेसब्री से इंतजार रहता है। यह सारा सामान हरियाली तीज से एक-दो दिन पहले आता है और इसमें मायके से कपड़े, आभूषण श्रृंगार का सामान और खाने-पीने की वस्तुएं शामिल होती हैं। मान्यता है कि मायके से आने वाले सिंधारे के जरिए मायके से बेटी के लिए शुभकामनाएं भेजी जाती हैं। जिन लड़कियों का रिश्ता तय हो जाता है, उनके लिए भी हरियाली तीज का विशेष महत्व होता है। उनके लिए ससुराल से सुहाग का सामान भेजा जाता है। जिसमें कपड़े, मेहंदी, श्रृंगार और मिठाई शामिल होती है।