Yuva Haryana
पानीपत में दिल दहला देने वाला हादसा :परिजनों ने सीट बेल्ट-लोवर-टीर्शट से विक्रांत को, पेंट-बेल्ट से पंकज और कड़े से की पहचान
 
हरियाणा के पानीपत में इसराना के पास स्टेट हाईवे पर कार में जिंदा जले तीनों युवकों की शवों की पहचान फौरी तौर पर कर ली गई, लेकिन पुख्ता करने के लिए सैंपल डीएनए जांच के लिए भेजे गए हैं। 
शनिवार को तीनों युवकों के परिजनों को शवगृह बुलाया गया और बरीकी से देखने के लिए कहा गया। इसके बाद फौरी तौर पर तीनों शवों की पहचान की गई, लेकिन डीएनए जांच की रिपोर्ट आने के बाद ही इसे पुख्ता माना जा सकेगा। 
Panipat
एक युवक के शव पर कार की सीट बेल्ट चिपकी मिली। जिस पर माना जा रहा है कि यह शव पैथ लैब संचालक विक्रांत का ही है क्योंकि कार उन्हीं की थी। पैथ लैब संचालक के पास काम करने वाले एक टेक्निशियन ने पुलिस को बताया कि विक्रांत ही लैब से कार चलाकर ले गया था। शव पर टी-शर्ट के अंश भी मिले हैं।
जलालपुर प्रथम निवासी पंकज की पहचान फिलहाल शर्ट के बटन से हुई। शर्ट के तीन बटन पूरी तरह नहीं जले थे। गांव बराना निवासी सुगम की शनाख्त हाथ में पहले कड़े और कद के अनुमान से की गई है। सुगम का कद विक्रांत और पंकज से कम था।
शुक्रवार को एक और शनिवार को दो शवों का पोस्टमार्टम फॉरेंसिक एक्सपर्ट डॉ. नारायण डबास, सर्जन डॉ. संजीव गुप्ता एवं हड्डी रोगी विशेषज्ञ डॉ. प्रदीप के बोर्ड ने किया। दोपहर 12 बजे तीनों शवों को परिजनों को सौंप दिया गया। डॉक्टरों ने शवों के डीएनए एवं विसरा सैंपल मधुबन लैब भेजे हैं। इनकी रिपोर्ट के आधार पर शनाख्त पुख्ता होगी।
पुलिस ट्रक चालक की धरपकड़ में जुटी
शुक्रवार दोपहर 12 बजे इसराना स्थित नई अनाज मंडी के कट पर मुड़ रहे ट्रक की साइड में लगी स्टेपनी से आई-20 कार ओवरटेक करते समय टकरा गई थी। हादसे में सीएनजी चालित कार में भयंकर आग लग गई। आग लगने से कार लॉक हो गई थी। इस वजह से कार में सवार तीनों युवक बाहर नहीं निकल पाए और वे जिंदा जल गए थे।
करीब 45 मिनट तक कार जलती रही तथा आसपास के लोगों ने अपने स्तर पर आग बुझाने के काफी प्रयास किए लेकिन जब तक आग पर काबू पाया गया तो महज कंकाल बचे थे। शाम को गाड़ी में सवार युवकों की शनाख्त हो पाई थी। पुलिस ट्रक चालक की तलाश में जुटी है।