Yuva Haryana
पर्यटन के क्षेत्र में बेहतरीन कार्य कर रहा है हरियाणा,संस्कृति और विरासत से जोड़ती है हरियाणा की भूमि
 

हरियाणा के पर्यटन मंत्री श्री कंवर पाल ने कहा कि हरियाणा एक ऐसी भूमि है जो लोगों को अध्यात्मिक और धार्मिक दृष्टि से आकर्षित कर हमारी संस्कृति व विरासत से जोड़ती है। प्रदेश में पर्यटन क्षेत्र में पिछले कुछ वर्षों में बढ़ोतरी हुई है।हरियाणा सरकार ज्योतिसर, कुरुक्षेत्र में महाभारत पर आधारित एक विश्व स्तरीय डिजिटल म्यूजियम 200 करोड़ रुपये की राशि से स्थापित कर रही है, जो लोगो के लिए विश्व स्तरीय पर्यटन का आकर्षण केंद्र होगा।


श्री कंवर पाल ने यह बात धर्मशाला में आयोजित पर्यटन मंत्रियों की नेशनल कांफ्रेंस के दौरान कही। पर्यटन मंत्री ने कहा कि ज्योतिसर में बन रहे डिजिटल म्यूजियम में महाभारत के सारे युद्ध को दिखाया जाएगा। उन्होंने कहा कि हरियाणा पर्यटन के क्षेत्र में बेहतरीन कार्य कर रहा है और ज्योतिसर सहित विभिन्न पर्यटन स्थानों पर काम चल रहा है। इन सभी कार्यों के पूरा होने से प्रदेश में पर्यटन को ओर अधिक बढ़ावा मिलेगा।


ग्रामीण पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए किए जा रहे है प्रयास
श्री कंवर पाल ने कहा कि हरियाणा पर्यटन विभाग द्वारा विभिन्न क्षेत्रों जैसे तीर्थ यात्रा,वन्यजीव, हेरिटेज, सांस्कृतिक एवं ऐडवेन्चर टूरिज्म में तेजी से विकसित हो रहा है। ग्रामीण पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए विभिन्न प्रयास किए जा रहे है। प्रदेश में होम स्टे पॉलिसी तैयारी की गई है। जिसके तहत चार जिलों झज्जर, पंचकूला, गुरुग्राम और कुरुक्षेत्र में होम स्टे क्लस्टर में विभाजित किए गए हैं ।


केंद्र सरकार के साथ मिलकर पर्यटन क्षेत्र में कर रहे है काम
श्री कंवर पाल ने कहा कि प्रदेश सरकार पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए कटिबद्ध है जिस पर केंद्र सरकार के साथ मिलकर इस क्षेत्र में कार्य कर रहे है। इस अवसर पर पर्यटन मंत्री श्री कंवर पाल ने हिमाचल सरकार द्वारा बनाई गई होम स्टे पॉलिसी के तहत धर्मशाला में स्थानीय लोगो से उनसे बातचीत कर उनके द्वारा बनाए गए होम स्टे का अवलोकन भी किया।


उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने पिछले कुछ दिनों में तीर्थ स्थल ज्योतिसर में भगवान श्रीकृष्ण के विराट स्वरूप की मूर्ति का अनावरण किया गया था और शीघ्र ही इस स्थान पर थ्री-डी प्रोजेक्शन मैपिंग शो भी लोगो को देखने को मिलेगा। इसके लिए अत्याधुनिक तकनीक जैसे ऑगमेंटेड रियलिटी, होलोग्राफिक इमेज, रोबोटिक और ड्रोन आदि का इस्तेमाल किया जाएगा।