Yuva Haryana
हरियाणा सरकार बनेगी 93 बच्चो की पालनहार , कोरोना में खो दिए थे माता - पिता
 

हरियाणा सरकार उन बच्चो के लिए पालनहार बनेगी जिन बच्चों ने अपने माता पिता को कोरोना महामारी में खो चुके है । इन बच्चो के पालन पोषण से लेकर, शिक्षा, सुरक्षा, और भविष्य संवारने की चिंता अब केन्द्र और हरियाणा सरकार करेगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और हरियाणा मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर खुद को ऐसे बच्चो का अभिभावक घोषित करते हुए सेवाएं और लाभ देने की प्रक्रिया तेज कर दी है । 


सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खुद दिल्ली से जनप्रतिनिधियों, प्रशासनिक अधिकारियो, लाभार्थी बच्चो से जुड़े और सेवाए, लाभ जारी किए है ।


प्रधानमंत्री की मौजूदगी में हरियाणा के विभन्न जिलों के 93 बच्चों के खाते खोलते हुए उनमें राशि जमा की गई है । यह लाभार्थी की आयु 18 वर्ष होने तक 10 लाख रुपये हो जाएगी। आयु 23 वर्ष होने तक बच्चों को राशि का ब्याज मासिक तौर पर मिलेगा। इसके बाद पूरी राशि का इस्तेमाल कर सकेंगे।

पहली से बारहवीं कक्षा में पढ़ने वाले बच्चों को वार्षिक 20 हजार रुपये, तकनीकी शिक्षा प्राप्त करने के इच्छुक लाभार्थियों को 50 हजार रुपये की छात्रवृत्ति देने की प्रक्रिया पूरी की गई। सभी बच्चों को आयुष्मान भारत योजना के तहत 5 लाख रुपये वार्षिक इलाज का कवर दिया गया।

कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय, केंद्रीय विद्यालय, नवोदय विद्यालय व पॉलिटेक्निक में इन्हें सीधा दाखिला मिलेगा। आईआईटी, आईआईएम की पढ़ाई करने के लिए 2.5 लाख रुपये की छात्रवृत्ति भी दी जाएगी। प्रोफेशनल कोर्स के लिए बिना ब्याज का ऋण मिलेगा।

महिला एवं बाल विकास मंत्री कमलेश ढांडा ने कहा कि भविष्य में इन बच्चों के प्रति अपनी जिम्मेदारी को और गंभीरता से निभाएंगे। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने 16 जून 2021 को मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना शुरू की थी, जिसमें अब तक 93 बच्चे चिह्नित किए हैं।