Yuva Haryana
हरियाणा पंजाब के स्कूली बच्चे हुए नशे के आदि, परिषद की ओर से की जाएगी इन्हे नशामुक्त कराने का प्रयास
 

स्कूली बच्चों का नशे की तरफ रुझान बढ़ते जा रहे है । ऐसे में पंजाब हरियाणा के बीच हरियाणा के जिलों में बच्चों ने नशे में रहना शुरू कर दिया है। वह लोग नशे की चपेट में लगातार आते दिखाई दे रहे हैं। इन बच्चों को लेकर सैकड़ों शिकायतें राज्य बाल कल्याण परिषद के पास आ चुकी है जिसकी वजह से हरियाणा में ज्यादातर नशे आदि बच्चे दिखाई देते हैं।

कुछ जिले ऐसे हैं जहां लगभग बच्चों को नशे की लत लग गई है जहां बच्चे ज्यादातर नशे करते हुए नजर भी आते हैं जिनमें से कुछ जले जैसे कि सिरसा, फतेहाबाद, कैथल समेत लगभग नौ जिले ऐसे है। रंजीता मेहता जोकि परिषद की महासचिव है उन्होंने इस बात का खुलासा किया कि ज्यादातर बच्चे जिले में नशे के आदी होते दिखाई दे रहे हैं। 
 
महासचिव ने बताते हुए बोला की उन्होंने विभिन्न विभागों के अधिकारियों से मिलकर बैठक ली जिस में नशाखोरी की शिकायतें ज्यादातर देखने को मिली। वे उन पर कड़ी कार्यवाही करने के निर्देश भी दे चुकी हैं। उन्होंने साथ में यह भी बोला कि जितनी भी शिकायतें जिले से आएंगी उन पर तुरंत कार्यवाही की जाए और उन्हें सरकार के संज्ञान में भी डाला जाए। 

आजकल की युवाओं को पंजाब और राजस्थान से जो नशा आ रहा है वह अपनी गिरफ्त में ले रहा है कई परिवारों में मां-बाप कामकाज के कारण अपने बच्चों को समय नहीं दे पाते जिसकी वजह से वह नशे आदि के शिकार हो जाते हैं। अधिकारियों को दोनों राज्यों की सीमाओं पर अधिक सचेत रहने को कहा है। साथ नशे का शिकार बच्चों की काउंसलिंग भी कराई जाएगी।

मेहता ने बताया कि मनोचिकित्सकों और शिक्षकों की मदद लेकर बच्चों को नशे के नुकसान बताए जाएंगे, इससे स्वास्थ्य पर पड़ने वाले विपरीत प्रभावों के बारे में भी जागरूक करेंगे।26 जून को अंतरराष्ट्रीय नशा मुक्ति दिवस है, इस दिन सिरसा में राज्य स्तरीय कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा। कार्यक्रम में अनेक ऐसे लोग मौजूद रहेंगे, जिन्होंने नशा छोड़कर नया जीवन शुरू किया है।

नशा मुक्त कराने के बाद इन बच्चो को रोल मॉडल के तौर पर अन्य बच्चों के सामने पेश किया जाएगा ताकि इन बच्चों के जरिए नशा करने वाले बच्चों को एक सबक मिल सके साथ ही एक संदेश भी मिल सके। इनके जरिए बच्चों को संदेश मिलेगा कि नशा करना आसान है लेकिन उस से निकलना भी मुश्किल नहीं है। इन बच्चों को खेलों व अन्य गतिविधियों में लाया जाएगा यह प्रयास परिषद अपनी तरफ से करेगा इनके लिए समर कैंप भी लगाए जाएंगे।