Yuva Haryana

Haryana Panchayat Election: हिसार, फतेहाबाद, फरीदाबाद, पलवल में पंचायत चुनाव की तारीखों का ऐलान,इस दिन होगे चुनाव

 

हरियाणा में पंचायत चुनावों के तीसरे और अंतिम चरण में शेष चार जिलों में पंचायत चुनाव का बिगुल बज गया है। हिसार, फतेहाबाद, पलवल और फरीदाबाद में जिला परिषद व ब्लाक समिति के सदस्यों के लिए 22 नवंबर को मतदान होगा। पंच-सरपंचों के लिए वोट 25 नवंबर को पड़ेंगे। कहीं पर जिला परिषद व ब्लाक समितियों के लिए दोबारा मतदान की नौबत आई तो 25 नवंबर को पुनर्मतदान कराया जाएगा।

पंच-सरपंचों के पुनर्मतदान के लिए 27 नवंबर का दिन निर्धारित किया गया है।राज्य चुनाव आयुक्त धनपत सिंह ने शुक्रवार को तीसरे चरण के पंचायत चुनावों का शेड्यूल जारी करते हुए बताया कि इन जिलों में चुनाव लड़ने के इच्छुक प्रत्याशी पांच से 11 नवंबर तक नामांकन पत्र दाखिल कर सकेंगे। इसके साथ ही पूरे प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में चुनाव आचार संहिता लागू हो गई है।

पंच-सरपंच पद के चुनाव नतीजे मतदान खत्म होने के तुरंत बाद घोषित कर दिए जाएंगे, जबकि जिला परिषद और पंचायत समिति सदस्यों के चुनाव परिणाम तीनों चरण के चुनाव संपन्न होने के बाद 27 नवंबर को घोषित किए जाएंगे।प्रदेश में कुल 22 परिषदों में 411 सदस्यों और 143 ब्लाक समितियों में 3081 सदस्यों तथा 6220 पंचायतों में 61 हजार 993 पंचों तथा 6220 सरपंचों का चुनाव होना है।

पहले चरण में 2607 सरपंचों, 26 हजार 68 पंचों, ब्लाक समितियों के 1278 सदस्यों और जिला परिषदों के 175 सदस्यों के लिए 6019 पोलिंग बूथों पर मतदान होगा। दूसरे चरण में 2683 सरपंचों, 25 हजार 655 पंचों, ब्लाक समितियों के 1244 सदस्यों और जिला परिषदों के 158 सदस्यों के लिए चुनाव होगा। इस तरह दूसरे चरण में कुल 29 हजार 740 पदों के लिए 5963 पोलिंग बूथों पर मतदान कराया जाएगा। तीसरे चरण में मतदान के लिए 2655 पोलिंग स्टेशन बनाए गए हैं।

पहला चरण
पहले चरण में रविवार को भिवानी, झज्जर, जींद, कैथल, महेंद्रगढ़, नूंह, पंचकूला, पानीपत और यमुनानगर में जिला परिषद व ब्लाक समिति सदस्यों के लिए सुबह सात से शाम छह बजे तक मतदान होगा। इसी तरह पंच-सरपंचों के लिए मतदान दो नवंबर को होगा और मतदान खत्म होते ही विजेताओं के नाम घोषित कर दिए जाएंगे।

इन नौ जिलों में जिला परिषद सदस्यों के लिए 1,308 प्रत्याशी मैदान में हैं जिनमें 738 पुरुष और 570 महिलाएं हैं। पंचायत समिति सदस्यों के लिए 4,979 उम्मीदवाराें ने दम लगाया हुआ है जिनमें 2,853 पुरुष और 2,126 महिलाएं हैं।

दूसरा चरण
दूसरे चरण के पंचायत चुनाव वाले जिलों अंबाला, चरखी दादरी, गुरुग्राम, करनाल, कुरुक्षेत्र, रेवाड़ी, रोहतक, सिरसा और सोनीपत में जिला परिषद सदस्यों व पंचायत समिति सदस्यों के लिए नौ नवंबर तथा सरपंच व पंच पद के लिए 12 नवंबर को मतदान होगा।

तीसरा चरण
तीसरे और अंतिम चरण में हिसार, फतेहाबाद, पलवल और फरीदाबाद में चुनाव होंगे। जिला परिषद व ब्लाक समिति के सदस्यों के लिए 22 नवंबर और पंच-सरपंचों के लिए 25 नवंबर को मतदान होगा।

30 नवंबर तक पूरी करनी है चुनाव प्रक्रिया
प्रदेश में कुल 22 परिषदों में 411 सदस्यों और 143 ब्लाक समितियों में 3081 सदस्यों तथा 6220 पंचायतों में 61 हजार 993 पंचों तथा 6220 सरपंचों का चुनाव होना है। प्रदेश सरकार ने राज्य चुनाव आयोग को 30 नवंबर तक पंचायत चुनावों की प्रक्रिया पूरी करने के निर्देश दिए हुए हैं।

तीसरे चरण में यह रहेगा चुनाव कार्यक्रम
29 अक्टूबर - अधिसूचना जारी होगी
05 से 11 नवंबर - नामांकन दाखिल होंगे
12 नवंबर - नामांकन पत्रों की छंटनी
14 नवंबर -नामांकन वापस लिए जा सकेंगे
22 नवंबर - जिला परिषद सदस्यों के लिए मतदान
25 नवंबर -पंच-सरपंचों के लिए मतदान
नौ जिलों में सर्वसम्मति से चुनी गई 133 गांवों की सरकार
प्रदेश में इन दिनों गांवों की सरकार चुनने के लिए हलचल जोरों पर है। 9 जिलों में पहले चरण का मतदान 30 अक्टूबर और 2 नवंबर को होना है। अलग-अलग चरणों में हो रहे इन चुनावों में जहां राजनीतिक दल अपना भविष्य देख रहे हैं, वहीं कुछ गांवों में लोगों ने सर्वसम्मति से अपने प्रतिनिधि चुनकर मिसाल पेश की है। जहां गांवों में आपसी भाईचारे का परिचय मिला, वहीं गांवों में विकास के लिए सरकार से भी आर्थिक मदद मिलेगी।

पहले चरण में भिवानी, झज्जर, जींद, कैथल, महेंद्रगढ़, नूंह, पंचकूला, पानीपत और यमुनागनर में चुनाव होने हैं। इन 9 जिलों में 133 सरपंच सर्वसम्मति से चुने गए हैं, जिनमें 74 पुरुष और 59 महिलाएं हैं। पंचायत समिति के 56 सदस्य भी निर्विरोध चुने गए, इनमें 25 पुरुष और 31 महिलाएं हैं। जहां तक पंचों की बात है, तो 17158 पंचों के मुकाबले में कोई मैदान में नहीं उतरा।

8708 पुरुष और 8450 महिलाएं सर्वसम्मति से पंच बन गए। जिला परिषद की किसी भी सीट पर सहमति नहीं बन पाई और सभी सीटों पर उम्मीदवार मैदान में है। इन 9 जिलों में जिला परिषद की 175 सीटों पर 1254 उम्मीदवार मैदान में हैं। जबकि पंचायत समिति की 1222 सीटों पर 4894 उम्मीदवार, 2474 सरपंचों के लिए 11391 उम्मीदवार अपना भाग्य आजमा रहे हैं। 8810 पंच पदों पर 16832 लोग अपना भविष्य देख रहे हैं।

इन जिलों में इतने पंचायत समिति सदस्यों का नहीं हुआ विरोध
आंकड़ों के अनुसार भिवानी में पंचायत समिति के 4, झज्जर में 2, जींद में 16, कैथल में 15, महेंद्रगढ़ में 4, नूंह में 2, पंचकूला में 7, पानीपत में 3 और यमुनानगर में 3 सदस्य सर्वसम्मति से चुने गए।सरपंचों की बात करें, तो सबसे ज्यादा यमुनानगर में 40 सरपंच सर्वसम्मति से चुने गए, जबकि भिवानी में 18, झज्जर में 4, जींद में 19, कैथल में 23, महेंद्रगढ़ में 4, नूंह में 7, पंचकूला में 15, पानीपत में 3 सरपंच सर्वसम्मति से चुने गए हैं।

यमुनानगर ने पंचों के मामले में भी रिकार्ड बनाया है। यमुनानगर में 2610 पंच सर्वसम्मति से चुने गए। उसके बाद जींद में 2516 पंच, भिवानी 2237, झज्जर 1756, कैथल 2016, महेंद्रगढ़ 1987, नूंह 2250, पंचकूला 852, और पानीपत में 934 पंच सर्व सम्मति से चुने गए हैं।

यह मिलेगा पंचायत चुनावों में सर्वसम्मति से चुनी गई पंचायतों को
11 लाख रुपये की प्रोत्साहन राशि दी जाएगी। इसके अलावा, सर्वसम्मति से चुने जाने वाले सरपंच तथा पंच को क्रमश: 5 लाख रुपये व 50 हजार रुपये की राशि दी जाएगी। इसी प्रकार, सर्वसम्मति से चुने जाने वाले जिला परिषदों के सदस्यों तथा पंचायत समितियों के सदस्यों को क्रमश: 5 लाख रुपये व 2 लाख रुपये की प्रोत्साहन राशि दी जाएगी।

नौ जिलों के ग्रामीण क्षेत्रों में कल व 2 को रहेगा सार्वजनिक अवकाश
हरियाणा में पंचायत चुनाव के पहले चरण के मतदान के लिए नौ जिलों के ग्रामीण क्षेत्रों में 30 अक्टूबर और दो नवंबर को सार्वजनिक अवकाश रहेगा। भिवानी, झज्जर, जींद, कैथल, महेंद्रगढ़, नूंह, पंचकूला, पानीपत और यमुनानगर में पंच-सरपंचों तथा जिला परिषद तथा पंचायत समिति के सदस्यों के चुनावों में मतदान के लिए सरकार ने संबंधित जिलों के अधिकार क्षेत्र में प्रदेश सरकार के कार्यालयों, बोर्ड-निगमों और शैक्षणिक संस्थानों में सार्वजनिक अवकाश की घोषणा की है, ताकि कर्मचारी अपने मताधिकार का उपयोग कर सकें।

मुख्य सचिव संजीव कौशल की ओर से इस संबंध में अधिसूचना जारी की गई है। पंचायतीराज संस्थानों के क्षेत्रों में स्थित कारखानों, व्यावसायिक प्रतिष्ठानों, दुकानों में भी दोनों दिन सार्वजनिक अवकाश रहेगा। इसी तरह हिसार जिले के आदमपुर विधानसभा क्षेत्र में उपचुनाव के लिए तीन नवंबर को होने वाले मतदान के लिए सार्वजनिक अवकाश और स्पेशल कैजुअल लीव (पेड) अधिसूचित किया गया है। राज्य सरकार के वह कर्मचारी, जो आदमपुर विधानसभा क्षेत्र के पंजीकृत मतदाता हैं, वे अपने मताधिकार का उपयोग कर सकेंगे। निजी प्रतिष्ठानों में कर्मचारियों को मतदान के दिन पेड लीव लेने की अनुमति होगी।