Yuva Haryana
आखिरकार तैयार हुआ हरियाणा ग्रीन फील्ड एक्सप्रेसवे, 9 हजार करोड़ की लागत से बना यह एक्सप्रेसवे, खासियत जानकार हो जाएंगे हैरान
 

कुरुक्षेत्र के इस्माईलाबाद से नारनौल तक की ग्रीन फील्ड एक्सप्रेसवे 152 डी अब बनकर तैयार हो गया है। इस एक्सप्रेस वे पर आवाहन चल सकेंगे और एक्सप्रेस वे 2 दिन वाहनों का ट्रायल करने के बाद 1 अगस्त से इस पर टोल शुरू कर दिया जाएगा। जिसके बाद से आगमन शुरू होने के बाद नारनौल से चंडीगढ़ का सफर केवल 4 घंटों में पूरा किया जाएगा। ऐसे संबंध में कुरुक्षेत्र, महेंद्रगढ़, रोहतक ,कैथल, भिवानी , करनाल, चरखी दादरी और जींद के उपायुक्त को पहले ही पत्र लिखकर वाहनों के परिचालक का ट्रायल भी शुरू कर दिया जाएगा। जिसके बाद प्रशासनिक स्तर पर सहयोग करने की बात कही गई है।


इसकी खास बात यह है कि हरियाणा का सबसे पहला ग्रीनफील्ड एक्सप्रेसवे होगा जो यातायात की हर प्रकार की सुविधा को पूरी करेगा और यह एक्सप्रेस में को हाई स्पीड कैमरा की निगरानी में रखा गया है और इस कार्य डोर की घोषणा वर्ष 2018 में भारत माला एक प्रोजेक्ट के तहत करी गई थी। जिसके बाद केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने 14 जुलाई 2020 को इसका  शिलान्यास किया था। इस एक्सप्रेस-वे के कारण अब यात्री कई राज्यों से जुड़ पाएंगे और केवल 4 घंटों में सफर को तय कर पाएंगे इस एक्सप्रेस-वे का निर्माण में नौ हजार करोड़ रुपए किए गए हैं और इस एक्सप्रेस-वे के दोनों तरफ हरियाली और बेहद आकर्षित और सुरक्षित सफर देने वाला साबित होगा।


एक्सप्रेस वे पर वाहनों की स्पीड 100 किलोमीटर प्रति घंटा रुक सी गई है और इसमें अगर कोई भी हादसा होता है तो कैमरे से नजदीकी कंट्रोल रूम तक सूचना को पहुंचाया जाएगा जिसके बाद कंट्रोल रूम से एंबुलेंस सूचित  होगी। निर्धारित 6 फ्लाइट ऊपर दो 2 एकड़ जमीन में वाहन खड़ा करना, रेसिडेंट और पेट्रोल पंप की जैसी सारी सुविधाएं यात्रियों को प्राप्त होंगी। ग्रीन फील्ड कॉरिडोर हाईवे पर एग्जिट और एंट्री पर टोल का भी प्रबंध रहेगा जिसके बाद फ्लाइट 7 नेशनल हाईवे और 7 स्टेट हाईवे पर बनाए गए हैं इस हाईवे पर जितनी भी दूरी तक वाहन को चलाया जाएगा उतना ही उसका टोल लिया जाएगा।