Yuva Haryana
हरियाणा में HCS परीक्षा 24 जुलाई को:10 जिलों में 524 सेंटर बनाए, 2 शिफ्ट में 1,48,262 कैंडिडेट देंगे एग्जाम
 

हरियाणा में एचसीएस एवं अलाइड की परीक्षा 24 जुलाई को होगी। प्रदेश के 10 जिलों में 524 परीक्षा केंद्रों पर 1,48,262 कैंडिडेट परीक्षा देंगे। परीक्षा 2 शिफ्टों में होगी। सुबह 10 बजे से दोपहर 12 बजे तक जनरल स्टडीज का पेपर होगा और दोपहर 3 बजे से शाम 5 बजे तक सीसेट का पेपर होगा।

बता दें कि यह परीक्षा करीब 10 महीने बाद हो रही है। हरियाणा लोक सेवा आयोग के डिप्टी सेक्रेटरी अनिल नागर के डेंटल सर्जन स्कैम भर्ती में विजिलेंस द्वारा पकड़े जाने के बाद आयोग ने एचसीएस की 12 सितंबर 2021 को हुई परीक्षा रद्द कर दी थी। विजिलेंस ने नागर से करीब 3 करोड़ रुपए भी बरामद किए थे। इसके बाद नागर को नौकरी से बर्खास्त कर दिया था।

मुख्य सचिव संजीव कौशल ने शुक्रवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में उपायुक्त और पुलिस अधीक्षकों को आदेश दिए गए कि वे अपने जिलों में प्रत्येक 5-10 लोकेशन के लिए फ्लाइंग स्क्वाड अधिकारियों की नियुक्ति करें। उपायुक्त व पुलिस की संयुक्त टीम जिलों में बनाए गए परीक्षा केंद्रों का दौरा करे और केंद्र के आसपास के क्षेत्र में चेकिंग करें।

उन्होंने कहा कि परीक्षा केंद्रों और आसपास के क्षेत्र में धारा 144 लागू की जाए। इसके अलावा संवेदनशील केंद्रों पर विशेष निगरानी रखी जाए। उन्होंने यह भी निर्देश दिए कि परीक्षा वाले दिन कोचिंग सेंटर बंद रखने के निर्देश जारी किए जाएं। स्टेशनरी की दुकानों और सोशल मीडिया पर भी निगरानी रखी जाए।

हर जिले में एक नोडल अधिकारी

जिला उपायुक्त परीक्षा की संपूर्ण देखरेख के लिए अपने जिले में एक नोडल अधिकारी नियुक्त करें। इसके सथ एक समन्वयक भी नियुक्त करें जो परीक्षा केंद्रों के साथ समन्वय स्थापित कर परीक्षा केंद्रों में कमरों, फर्नीचर, पीने के पानी की व्यवस्था व शौचालयों इत्यादि सभी व्यवस्थाएं सुनिश्चित करेगा। उन्होंने कहा कि 22 जुलाई को जिला उपायुक्त परीक्षा केंद्रों पर नोडल अधिकारियों, फ्लाइंग स्क्वाड अधिकारियों और एजेंसी के प्रतिनिधियों के साथ एक संयुक्त बैठक करें और परीक्षा से संबंधित सभी गतिविधियों का ट्रायल रन करें।

स्ट्रॉन्ग रूम की जीपीएस लोकेशन हाेगी रिकॉर्ड

पुलिस महानिदेशक पीके अग्रवाल ने पुलिस अधीक्षकों को निर्देश देते हुए कहा कि अकसर इलेक्ट्रॉनिक चीजों का इस्तेमाल कर नकल करने का प्रयास किया जाता है। इसलिए पार्किंग की व्यवस्था परीक्षा केंद्रों से दूर की जाए, ताकि इस प्रकार की किसी भी घटना को रोका जा सके। बैठक में बताया गया कि सुबह और शाम की शिफ्ट में होने वाले परीक्षाओं की परीक्षा सामग्री अलग-अलग भेजी जाएगी। परीक्षा सामग्री रखने के लिए जिलों में बनाए गए स्ट्रॉन्ग रूम की जीपीएस लोकेशन भी रिकॉर्ड की जाएगी। स्ट्रॉन्ग रूम में आने-जाने वालों का विस्तृत रिकॉर्ड भी रखा जाएगा। परीक्षा केंद्रों के प्रवेश द्वार और कमरों में सीसीटीवी कैमरा लगाए जाएंगे। प्रवेश से लेकर परीक्षा खत्म होने तक हर एक गतिविधि की रिकॉर्डिंग की जाएगी। इसके अलावा, जैमर्स भी लगाए जाएंगे।