Yuva Haryana
करनाल की ऐसी खास पांच जगह जहां पर हर व्यक्ति जाकर हो जाएगा हैरान, आप भी जरूर जाएं
 

जैसा की आप सभी को पता ही है, अब हर सिटी स्मार्ट सिटी बनने में लगी हुई है। और इसी सफर में कर्ण नगरी करनाल भी स्मार्ट सिटी बनने के सफर में तत्पर है। जिसके चलते अब करनाल की वेशभूषा में एक खास बदलाव आया है। आपको बता दें यहां की जितनी भी सड़कें हैं उनके चौड़ीकरण से लेकर सुचारु प्रकाश व्यवस्था जैसे कार्य तो करा ही गए हैं। उसके साथ साथ कर्ण लेक से लेकर शहर भर के सभी पार्कों  के सौंदर्य करण का भी कार्य कराया गया है। आप भी करनाल के इन खूबसूरत नजारों का आनंद उठा सकते हैं। तो आइए आपको बताते हैं उन स्थानों के बारे में। 

मनमोहनी कर्ण लेक

वैसे तो करनाल में बहुत सी जगह  मनमोहक हैं लेकिन कर्ण लेक की तो बात ही कुछ और है। यह बहुत ही रमणीक पिकनिक स्पॉट है। इसमें करीब ₹70000000 की लागत से इस लेक का सुंदरीकरण किया जा रहा है। यहां नौका विहार कैसे और बहुत ही अलग-अलग आकर्षक चीजें सैलानियों को अपनी ओर खींचती हैं। इस लेक का पानी भी बहुत ज्यादा साफ है। इसके लिए दो नलकूप भी लगाए गए हैं।

आगे आपको बता दें कि यहां पर आईलैंड जिसको की हिंदी में टापू कहते हैं, वह भी यहां पर बनेगा।यहां पर पर्यटक स्कल्पचर वाक भी कर सकेंगे। जिसमें उन्हें महाभारत जैसे थीम पर लगी मूर्तियों को देखकर इतिहास से सीधा साक्षात्कार का अनोखा अवसर मिलेगा। इसलिए के अंदर संगीतमय फवारा भी लगाया जाएगा। जिससे कि पर्यटक और भी आकर्षण होंगे। उन्हें रोजगार के अवसर भी मिलेंगे। और विभाग के आय के स्रोत भी बढ़ जाएंगे। लेक के मौजूदा इंफ्रास्ट्रूचर को साथ सिटी प्रोजेक्ट के कार्य भी जोड़े  जाएगा।

आपको बता दें करनाल के सेक्टर 8 स्थित अटल पार्क के गिनती हरियाणा के सबसे बड़े पार्कों में की जाती है  जीटी रोड से सटे करीब 55 एकड़ में फैले पार्क में ओपन एयर जिम, तालाब, फव्वारे के अलावा एक खूबसूरत झील भी है। जहां जाकर आप खूब मजे कर सकते हैं। करनाल की यह जगह परिवारों और प्रायटको के लिए बहुत ही लोकप्रिय हैं। यह बहुत ही खूबसूरत पिकनिक स्पॉट है। यह बहुत ही प्रसिद्ध भी है। यहां सुबह और शाम योग की कक्षाएं भी लगती हैं।

जानकारी के अनुसार शहर के 8 प्रवेश स्थलों पर बहुत ही विशाल द्वार बनाए गए हैं। इनमें बलटी बाईपास पर श्रीमद्भगवद्गीता के नाम से एक विशाल द्वार बन चुका है। नमस्ते चौक पर राजा कर्ण के नाम से गेट बनाया गया है। करनाल मेरठ रोड पर हाईवे के निकट पंडित दीनदयाल उपाध्याय और करनाल इंद्री रोड पर श्री मनोहर जैन मुनि के नाम से गेट बनाए गए हैं। इस गेट के पास जैन मुनि के नाम पर आराधना मंदिर भी स्थित है। और बता दें काछवा रोड पर युगपुरुष स्वामी विवेकानंद के नाम से भव्य द्वार का निर्माण किया जाएगा।

एक खास बात यह भी आपको बता दे करनाल कैथल रोड पर श्री गुरु नानक द्वारा बनाया जा रहा है। करनाल कुंजपुरा रोड पर मां सरस्वती के नाम से एक गेट बनाया जाएगा। करनाल मूनक रोड पर महान अंतरिक्ष वैज्ञानिक और करनाल की बेटी कल्पना चावला के नाम पर भी एक द्वार बनाया जाएगा। सीधी सी बात है शहर अपने गौरवशाली अतीत का सफर करनाल वाले इन प्रवेश द्वारों से आप अपने बच्चों को बहुत उपयोगी जानकारी दे सकते हैं।

आपको बता दें मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम के जीवन चरित्र में माता सीता का बहुत ही महत्व है। इसलिए उनके नाम का स्मरण भक्त श्री राम के नाम से पहले करते हैं। रामायण में इसी प्रेरक पात्र माता सीता के प्रति इसी अनन्य आस्था का प्रतीक है करनाल से करीब 25 किलोमीटर दूर स्थित प्रसिद्ध सीता माई मंदिर। ऐसा माना जाता है कि रामायण काल में मां सीता जी धरती में समाई थी। श्रुति है कि 14 वर्ष के वनवास के बाद भगवान राम के आदेश पर लक्ष्मण ने मां सीता को इसी जंगल में छोड़ा था। उसका नाम लड़वान है।

इस घने जंगल की पश्चिम दिशा में महर्षि वाल्मीकि जी का आश्रम स्थित था। जहां माता सीता अपने वनवास के समय पर रही थी। ऐसा माना जाता है जिस स्थान पर माता सीता भूमि में समाई थी। उस जगह सीता माई मंदिर बनाया गया है और इसी वजह से यहां के गांव का नाम भी सीता माई रखा गया है। इस मंदिर का नाम इतिहास में सीतामठ है। त्योहारों पर यहां श्रद्धालुओं की काफी भीड़ रहती है।