Yuva Haryana
22 जुलाई को पंचायत चुनाव की मतदाता सूचियों का अंतिम प्रकाशन
 
हरियाणा में पंचायत चुनाव की तैयारी काफि जोर शोर से हो रही है। चुनावो को दो चरणों में कराया जा सक्ता है। पहले चरण में सरपंच और पंच के लिए मतदान होगा। दूसरे चरण में जिला परिषद और बीडीसी सदस्यों के लिए वोट डाले जाएंगे। राज्य चुनाव आयोग चुनाव के लिए पूरे प्रदेश से डाटा एकत्रित करने में जुटा हुआ है। महिलाओं और एससी उम्मीदवारों के लिए आरक्षण का प्रावधान रहेगा, बीसी-ए श्रेणी को बिना आरक्षण दिए चुनाव होंगे।
राज्य में पंचायत चुनाव दो चरणों में कराने की तैयारी है। पंच और सरपंच के चुनाव एक साथ तथा जिला परिषद व पंचायत समिति के सदस्यों के चुनाव एक साथ कराए जा सकते हैं। पंचायतों के 71 हजार 763 पदों पर चुनाव कराये जाएंगे।
 राज्य चुनाव आयोग की ओर से 22 जुलाई को पंचायत चुनाव की मतदाता सूचियों का अंतिम प्रकाशन कर दिया जाएगा। यह सूचियां 16 मई 2022 तक की विधानसभा मतदाता सूची में दर्ज मतदाताओं को पंचायतों के वार्डों में बांटकर तैयार की गई है।
जो व्यक्ति किसी भी कारण से पंचायत की मतदाता सूची में आने से रह गए और उनका नाम 16 मई तक विधानसभा की मतदाता सूची में दर्ज था, उन्हें अपना नाम पंचायत की मतदाता सूची में दर्ज करवाने हेतु प्रारूप 1क में आवेदन करना होगा।
यह आवेदन उपायुक्त एवं जिला निर्वाचन अधिकारी (पंचायत) या उनके द्वारा प्राधिकृत किसी अधिकारी के समक्ष प्रस्तुत करना होगा। मतदाता सूचियों के प्रकाशन में आपत्तियां सुनने की प्रक्रिया पूरी होने के बाद पंचायत चुनाव का शेड्यूल घोषित किया जा सकता है। इस तरह, पंचायत चुनाव सितंबर में संभव हैं।
सभी एक हजार मतदाताओं पर एक मतदान केंद्र बनेगा। इस संबंध में तैयारी करने के निर्देश जिला उपायुक्तों को दिये जा चुके हैं। इस बार के पंचायत चुनाव में पिछड़ा वर्ग के आरक्षण का प्रविधान नहीं रहेगा। राज्य सरकार ने इसी सप्ताह राज्य पिछड़ा वर्ग आयोग का गठन किया है, जिसे कहा गया है कि वह इस वर्ग के लोगों के लिये शहरी निकायों व पंचायतों में आरक्षण की सिफारिश करे।