Yuva Haryana
किसान की मेहनत कमाल की रंग लाई है, 12 फिट लंबे गन्‍ने की हुई पैदावार
 
यदि कड़ी मेहनत आपका हथियार है, तो सफलता आपकी ग़ुलाम हो जाएगी। इस कविता को हरियाणा के एक किसान ने साबित कर दिखाया है। हरियाणा के खंड रादौर के गांव दोहली में एक किसान ने आदमी से भी लम्बी फसल उगाई। 
वागीश कूमार की मेहनत रंग लाई है, जुलाई के माहिने में की गई गन्ने की फसल की लम्बाई लगभग 12-13 फीट हो गई है। अब से पहले दो बार गन्ने बंध चुका है और तीसरी बंधाई चल रही है।
आपको बता दें कि वागिश ने गन्ने के साथ लहसुन की फसल भी तैयार की थी। किसान के मुताबिक उन्होंने खाद-खुराक केवल लहसुन की फसल को दी है। लेकिन उसका फायदा गन्ने की फसल को मिला है। गन्ने की फसल को अतिरिक्त खुराक देने की आवश्यकता ही नहीं पड़ी। बता दें कि गत माह जल संरक्षण के क्षेत्र में सराहनीय कार्य करने पर चौधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय की ओर से उनको सम्मानित भी किया जा चुका है।
 वागीश कुमार की आयु 30 वर्षीय है, किसान ने बताया कि उन्होंने 12 सितंबर को गन्ने की बिजाई की। खूड से खूड की दूरी चार फीट रखी। साथ में लहसुन की बिजाई की। मार्च और अप्रैल के माहिने में लहसुन की फसल तैयार हो गई। करीब 30 क्विंटल लहसुन की पैदावार हुई। उसके बाद निराई-गुढ़ाई की गई। 
 किसान गन्ने की बिजाई सरसों व गेहूं की कटाई करने के बाद ही करते है पर अगर सितंबर-अक्टूबर के माहिने में की जाए तो पैदावार भी अतिरिक्त अव्वल रहती है और साथ में दूरी फसल बोनस के तौर पर मिल जाती है। गन्ने की फसल को अतिरिक्त खुराक देने की जरूरत नहीं पड़ती। इस दौरान गन्ने के साथ प्याज, गोभी व दालों की खेती भी की जा सकती है।