Yuva Haryana
नशे में धुत आईजी होमगार्ड ने नशा मुक्ति केंद्र में की शर्मनाक हरकत, वार्ड में भर्ती युवती को बोला- ये मेरी हनीप्रीत है
 

नशे में डूबा आदमी क्या कुछ नहीं कर जाता यह उस व्यक्ति को भी नहीं पता होता है  .  ऐसा ही एक मामला आज हम आपको बताने वाले हैं पंचकूला के सेक्टर 6 में स्थित सामान्य अस्पताल के नशा मुक्ति बोर्ड में हंगामा हो गया ,जब नशे में धुत आईजी होमगार्ड हेमंत कल्सन  बोर्ड में भर्ती युवती  के पास देशी शराब की बोतल और तंबाकू गुटका लेकर पहुंच गया।  उसने वार्ड में भर्ती युवती को जबरदस्ती अपने साथ ले जाने की कोशिश भी की जब स्टाफ नर्स ने उसे  रोकने की कोशिश की तो उसके साथ दुर्व्यवहार किया और कहा यह मेरी हनीप्रीत है आजा तुझे भी बना दूँ।  इस पर नर्स ने सेक्टर-7 थाना पुलिस को शिकायत दी। पुलिस ने आईजी होमगार्ड हेमंत कल्सन के खिलाफ विभिन्न धाराओं में मामला दर्ज कर किया है। कल्सन ने कुछ समय पहले ही युवती को नशा मुक्ति में भर्ती करवाया था।

आरोपी आईजी हेमंत कल्सन  ने कर्मचारियों को धमकी दी कि मैं एक बड़ा पुलिस अधिकारी हूं.  मौके पर मौजूद अन्य वार्ड सदस्यों के अनुरोध करने पर भी वो वार्ड से बाहर नहीं जाने की जिद पर कायम रहा।  हेमंत कल्सन ने  2 साल पहले अगस्त 2020 में पिंजौर के रत्तपुर कॉलोनी में रहने वाली मां बेटी के साथ मारपीट और गाली गलौज भी की थी। महिला की शिकायत पर पुलिस ने मामला दर्ज किया था।   महिला के पड़ोस में रहने वाले एक व्यक्ति ने आईजी के खिलाफ मारपीट की शिकायत दर्ज कर रखी है।  


इस अपराध किस जुर्म में आईजी को जेल भी जाना पड़ गया था।   2019 में आईजी हेमंत कल्सन को तमिलनाडु के आरियालूर में चुनाव ड्यूटी के लिए बतौर आब्जर्वर तैनात किया गया था।  लेकिन अपनी आदत से मजबूर आईजी ने वहां पर भी शराब के नशे में तैनात कॉन्स्टेबल से बंदूक ली और यह जानने के लिए कि वह चलती है या नहीं हवाई फायरिंग कर दी , इसमें उस्ने 9  राउंड फायर किए , जिसकी वजह से वहां की सर्किट हाउस में रह रहे लोग दहशत में आ गए।  इसके बाद हरियाणा सरकार ने कुछ समय के लिए सस्पेंड कर दिया था।

वही पंचकूला एसीपी  राम कुमार कौशिक ने बताया की  नर्स की शिकायत पर आईजी होमगार्ड के खिलाफ विभिन्न धाराओं में मामले दर्ज किए गए हैं।  इस मामले की जांच की जा रही है। जल्द ही कार्यवाही कर उच्च अधिकारियों को रिपोर्ट सौंपी जाएगी। 

वही आईजी हेमंत कल्सन का कहना है कि नशा मुक्ति वार्ड में भर्ती युक्ति अनाथ है और 4 साल से वह मेरी केयरटेकर रह रही है।  उसने 6 मई को चिकन और जूस लाने को कहा था जूस पैक करने वाले ने गलती से शराब की खाली बोतल में जूस पैक कर दिया।  वह लेकर में अस्पताल गया था।  वार्ड  की नर्स और स्टाफ ने उसे चेक कर भर्ती महिला को खाने के लिए भी दिया था।  स्टाफ नर्स शराब की बोतल देखकर हंगामा करने लगी , जहां तक मेरे खिलाफ मामला दर्ज हुआ है उसका क्या प्रूफ है।  अस्पताल ने वीडियो बनाया है मेरे और स्टाफ नर्स के बीच करीब 5 से 7 फुट का फैसला था  . मुझे अस्पताल के सिक्योरिटी गार्ड मेरे गनमैन के सामने बाहर ले गए और मुझे कुर्सी पर बिठा कर मेरे साथ दुर्व्यवहार किया।  इतना ही नहीं मुझे जाति सूचक शब्द कहे और  गालियां भी दी।  मैंने भी स्टाफ नर्स और सिक्योरिटी गार्ड के खिलाफ शिकायत दी है पुलिस मुझे जवाब दे क्यों नहीं दर्ज किया। पुलिस मेरे मरीज को परेशान ना करे, इसलिए मैंने वार्ड से आज छुट्टी करवा लिया है। मैं कोर्ट में अस्पताल की स्टाफ नर्स और सिक्योरिटी गार्ड को घसीटूंगा।