Yuva Haryana
प्रदेश में मई तक रोजाना बिजली की डिमांड पहुंच सकती है 1.25 करोड़ यूनिट, अब सिक्किम मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ से बिजली खरीद की तैयारी
 

प्रदेश में बिजली संकट गहराता जा रहा है. बिजली निगम यह बात कबूल चुका है कि मई तक प्रदेश में 1.25 करोड़ यूनिट बिजली की डिमांड होने वाली है. इसके मद्देनजर रखते हुए हरियाणा सरकार ने अब छत्तीसगढ, मध्यप्रदेश और सिक्किम से बिजली खरीदने को मंजूरी मांगी है. कुल 1000 मेगावाट बिजली 5.75 रुपए प्रति यूनिट के हिसाब से खरीदी जाएगी. 

लाइट

बिजली व्यवस्था ठप होने से दिनभर में 10 से 12 घंटों के बिजली कट लगाए जा रहे हैं. भीषण गर्मी के बीच लोगों की जान निकली जा रही है. शनिवार को नेता प्रतिपक्ष एवं पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा और कांग्रेस महासचिव रणदीप सुरजेवाला ने बिजली कटौती को लेकर प्रदेश सरकार को घेरा था. उन्होंने आरोप लगाया था कि सरकार ने निजी कंपनियों के साथ मिलीभगत की है जिस वजह से जनता को परेशान होना पड़ रहा है. इसके पलटवार में बिजली मंत्री रणजीत चौटाला ने कहा था कि दो दिन के बाद प्रदेश में बिजली की किल्लत नहीं होगी और न ही बिजली कटौती की जाएगी. 

लाइट

बता दें कि प्रदेश में 2236 मेगावाट बिजली सप्लाई बंद पड़ी है. जो 1424 मेगावाट बिजली अडानी पावर से मिलती थी वह बंद है. सीजीपीएल मुंद्रा की 380 और फरीदाबाद गैस प्लांट की 432 मेगावाट बिजली भी बंद है.