Yuva Haryana
बच्चो के दिल की बीमारी का होगा सस्ते में इलाज, रोहतक पीजीआई में तैयार किया जाएगा सेंटर
 

छोटे बच्चों में दिल की बीमारियों के लिए अब प्रदेश व एनसीआर के लोगों को महंगे इलाज की चिंता नहीं सताएगी। क्योंकि अब पंडित भगवत दयाल शर्मा स्वास्थ्य विज्ञान विश्वविद्यालय में पीडियाट्रिक कार्डियक केयर सेंटर तैयार हो रहा है। पीजीआइ में तैयार हो रहे पीडियाट्रिक कार्डियक केयर सेंटर पर करीब 400 करोड़ रुपये का खर्च आएगा। जिसको अमेरिका की सलोनी हार्ट फाउंडेशन उठा रहा है।

विवि की ओर से इसे लेकर 2.7 एकड़ जगह भी चिन्हित कर ली गई है। फाउंडेशन के साथ विवि जल्द ही एमओयू साइन करेगा। पीजीआइ में सेंटर तैयार होने के बाद दिल की बीमारी वाले बच्चों को बड़ी राहत मिलेगी। पीडियाट्रिक कार्डियक केयर सेंटर आटोनामस होगा, जिसके लिए अलग से बजट का प्रावधान होगा।

-चार फेज में चलेगा प्रोजेक्ट

कार्डियक सेंटर को लेकर चार फेज में प्रोजेक्ट चलना है। जीरो फेज का कार्य पीजीआइ की ओर से पूरा कर लिया गया है। कार्डियोलाजी विभाग में वर्तमान सुविधाओं के साथ कार्डियक सर्जरी व कार्डियोलाजी के लिए छह-छह बेड की व्यवस्था शुरू कर दी गई है। वहीं तीन सीटें भी इस विभाग को ट्रांसफर हुई है। जिस पर ईसी की बैठक प्रस्ताव हुआ है। डीएनबी कोर्स के लिए भी दो सीटों का प्रस्ताव पास हुआ है।

-उपकरण देगा फाउंडेशन, फैकल्टी देगी सरकार

पीडियाट्रिक कार्डियक केयर सेंटर में फेज वाइज बेड की संख्या व सुविधाएं बढ़ती जाएंगी। पहले फेज में 50 बेड, दूसरे में 100 व तीसरे फेज में पूरी क्षमता से 200 बेड के साथ सेंटर शुरू हो जाएगा। सेंटर के लिए बिल्डिंग निर्माण उपकरण, बेड व दूसरी तरह की तमाम चीजें फाउंडेशन की ओर से दी जाएगी। वहीं 200 बेड के अनुसार फैकल्टी व दूसरे स्टाफ प्रदेश सरकार की ओर से उपलब्ध करवाए जाएंगे।

-वरदान बना कुलपति का पीडियाट्रिक कार्डियोलाजिस्ट होना

पीजीआइ में पीडियाट्रिक कार्डियाेलाजी विभाग में अभी तक कुछ खास सुविधाएं नहीं थी। बच्चों में दिल की बीमारी को लेकर यहां पर कोई उपचार उपलब्ध नहीं था। लेकिन जब डा. अनिता सक्सेना बतौर कुलपति यहां पहुंची तो उन्होंने पीडियाट्रिक कार्डियोलाजी विभाग को सजीव कर दिया। कुलपति डा. अनिता सक्सेना पीडियाट्रिक कार्डियोलाजिस्ट हैं और सप्ताह में दो दिन खुद ओपीडी संभालती हैं। बस यही वजह है कि पीजीआइ को बड़ा सेंटर मिल रहा है।

हेल्थ विवि रोहतक हेल्थ विवि कुलपति डा. अनिता सक्सेना, , में अमेरिकन सलोनी हार्ट फांउंडेशन की ओर से 200 बेड का पीडियाट्रिक कार्डियक केयर सेंटर तैयार किया जा रहा है। प्रदेश भर से दिल की बीमारी वाले बच्चों के लिए बड़ी राहत होगी। उन्हें महंगे संस्थानों में जाने की बजाए पीजीआइ में उपचार मिल जाएगा। उनका प्रयास है कि मरीजों को यहां पर बेहतर सुविधाएं उपलब्ध हो सकें।