Yuva Haryana
बबली-बराला की बढ़ी दरार, बराला समर्थक टोहाना नप चेयरमैन और 12 पार्षदों ने की मुख्यमंत्री से मुलाकात
 
टोहाना में पंचायत मंत्री देवेंद्र सिंह बबली और सार्वजनिक ब्यूरो उपक्रम के चेयरमैन सुभाष बराला के बीच खींचतान लगातार बढ़ती जा रही है। नगर परिषद चेयरमैन नरेश बंसल के शपथ ग्रहण समारोह में जहां पंचायत मंत्री देवेंद्र सिंह बबली ने हारे हुए प्रत्याशी रमेश गोयल को अपने साथ मंच पर जगह देकर एक संदेश दिया था। ऐसे में अब पूर्व बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष सुभाष बराला टोहाना नगर परिषद चेयरमैन नरेश बंसल व 12 पार्षदों को मुख्यमंत्री से मिलवाने ले गए। इतना ही नहीं, सुभाष बराला के कहने पर मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने टोहाना नप चेयरमैन व पार्षदों को औपचारिक रूप से बीजेपी में शामिल भी करवाया। खुद पूर्व प्रदेशाध्यक्ष सुभाष बराला ने इसकी पुष्टि की है।

पूर्व बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष सुभाष बराला के नेतृत्व में मुख्यमंत्री मनोहर लाल से मिलने पहुंचे पार्षदों में पार्षद नीरू सैनी, धर्मपाल काला पहलवान, जगमेल कटारिया, पूजा माथूर, राकेश कुमार, पूजा मित्तल, सीमा भाटिया, पुष्पा मेहता, निखिल बंसल, स्वीटी भाटिया, रोशन लाल एवं फुलां बाई शामिल रहे। सबसे पहले टोहाना नप चेयरमैन नरेश बंसल ने मुख्यमंत्री से मिलकर उन्हें टोहाना की ओर से शाल ओढ़ाकर सम्मानित किया। इसके बाद मुख्यमंत्री एक-एक करके सभी पार्षदों से मिले और उन्हें जीत की बधाई देते हुए विकास कार्यों में जुटने का मंत्र दिया।

कुछ दिन पहले मेडिकल कालेज के मुद्दे पर पंचायत मंत्री और टोहाना के विधायक देवेंद्र सिंह बबली ने टोहाना-जाखल के करीबन सौ मौजिज लोगों का एक प्रतिनिधिमंडल को मुख्यमंत्री मनोहर लाल से मिलवाया था। ये पंचायत मंत्री का शक्ति प्रदर्शन समझा जा रहा था। ऐसे में अब बराला ने शहर की लोकल सरकार को ही मुख्यमंत्री के समक्ष खड़ा करके बबली के नहले पर दहला मारने का प्रयास किया है।

'ये सभी शहर के चुने हुए नुमाइंदे हैं। चूंकि हमने नगर निकाय चुनावों में पार्षद चुनाव पार्टी चिह्न पर नहीं लड़े थे। ऐसे में विजयी पार्षद हमारा साथ चाहते थे। ऐसे में मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने नप चेयरमैन नरेश बंसल व 12 पार्षदों को बीजेपी में शामिल करवाया है। ये किसी को जवाब नही है, मुख्यमंत्री हमारे मुखिया हैं, उनसे मिलना हमारे लिए सामान्य बात है। दो और पार्षद भी साथ आने वाले थे, लेकिन उन्हें ऐन मौके पर कोई जरूरी काम हो गया। उन्हें बाद में बीजेपी में शामिल करवाया जाएगा।