Yuva Haryana
BAMS Student Suicide: एक बार बंपर की टक्कर से बची तो दूसरी बार में मालगाड़ी के आगे आकर दे दी जान
 

हरियाणा के यमुनानगर की बीएएमएस सेकेंड इयर की छात्रा ने रोहतक काठमंडी पुल के पास ट्रेन के सामने आकर आत्महत्या कर ली है ।  वहा  मौजूद लोगो के अनुसार छात्रा काफी देर से फोन पर बात कर रही थी और रो रही थी । पहले प्रयास में वह मालगाड़ी के इंजन के बंपर से टकराकर दूर जा गिरी । मालगाड़ी रुकने के बाद उसे तलाशा गया, पर नजर नही आई । लेकिन जैसे ही मालगाड़ी दोबारा चली छात्रा ने पटरी पर गर्दन रखकर आत्म हत्या कर दी ।


रेलवे सीएनडब्ल्यू के कर्मचारियों ने बताया कि शाम करीब सवा चार बजे उन्होंने देखा कि एक युवती पटरी पर चलते हुए फोन पर बात करते हुए रो रही थी। जब तक वहा मौजूद लोग कुछ समझ पाते तब तक स्टेशन से दिल्ली की तरफ धीमी रफ्तार में मालगाड़ी आ गई। युवती ने मालगाड़ी के सामने आकर आत्महत्या का प्रयास किया , मगर बंपर से टकराकर और दूर गिर गई ।  लोको पायलट ने तुरंत कंट्रोल रूम में सूचना देते हुए मालगाड़ी रोक दी ।


इसके बाद लोको पायलट और सीएनडब्ल्यू के कर्मियों ने युवती को ढूंढा पर वो कही छिप गई और नजर नही आई उसके बाद करीब 5 मिनट बाद पावर केबिन से सिग्नल मिलते ही मालगाड़ी आगे बढ़ी। जैसे ही मालगाड़ी काठमंडी पुल के पास पहुंची वैसे ही छिपकर बेटी लड़की ने दौड़कर पानी गर्दन पटरी पर रख दी । जब तक लोको पायलट इमर्जेसी ब्रेक लगाते तब तक लड़की के ऊपर से इंजन गुजर चुका था , सूचना मिलते ही जीआरपी एएसआई मौके पर पहुंच गए और शव को कब्जे में ले लिया । इस दरमियान युवती के ही मोबाइल पर पिता का फोन आया , जिसपर परिजनों को जानकारी दी गई ।

 चरखी दादरी निवासी जितेंद्र और उसकी पत्नी पूनम ने बताया की उनकी बेटी प्रभा यमुनानगर के एक कॉलेज में पढ़ती है , रविवार को वो घर आने वाली थी । दोपहर करीब साढ़े तीन बजे वह रोहतक बस स्टैंड पर उतरी , उसने पिता को बताया की वो चरखी दादरी के लिए बस लेगी लेकिन जब साढ़े चार बजे उसके पिता ने फोन किया तो जीआपपी के एएसआई राकेश कुमार ने बताया कि प्रभा ने ट्रेन के सामने आकर आत्महत्या कर ली है । यह बात सुनकर आश्चर्य में आए , बेटी को तो बस से आना था लेकिन वो स्टेशन कैसे पहुंच गई । 


जीआरपी के कब्जे में छात्रा का मोबाईल फोन है अब जीआरपी मोबाइल से छात्रा के आत्महत्या की गुत्थी सुलझेगी। जीआरपी एएसआई राकेश कुमार ने बताया कि मृतक छात्रा के पिता के प्रार्थना पत्र के आधार पर आगे की कार्यवाही की जायेगी।