Yuva Haryana
खुद के खिलाफ आरोपों पर अशोक खेमका ने बयां किया अपना दर्द, जानिए क्या बोले ?
 

हरियाणा के आईएएस ऑफिसर अशोक खेमका ने खुद के खिलाफ लगाए गए आरोप पर चुप्पी तोड़ी है।  अशोक खेमका ने के ट्ववीट क्व माध्यम से अपना दर्द साझा किया है, उन्होंने लिखा है कि 'फिर साजिशन कीचड़ उछाला जाने लगा'  यह परीक्षा स्वीकार है।   बता दे की हरियाणा के दो आईएएस अधिकारियो अशोक खेमका और संजीव वर्मा के बीच का विवाद काफी चर्चित रहा।  अशोक खेमका ने अपनी बात के समर्थन में कवि दिनकर की कुछ पंक्तियां ट्वीट की हैं। बता दें कि हरियाणा वेयर हाउसिंग कारपोरेशन के एमडी संजीव वर्मा की शिकायत पर पिछले दिनों अशोक खेमका समेत चार अधिकारियों के विरुद्ध पंचकूला थाने में भ्रष्टाचार निरोधक कानून की धाराओं में एफआइआर दर्ज हुई है। वर्मा ने दूसरी शिकायत भी पंचकूला पुलिस को भेजी, जिसे पहले एफआइआर में मर्ज कर दिया गया है। पंचकूला पुलिस ने समस्त दस्तावेज हरियाणा सरकार को भेज दिए हैं, जिस पर सरकार को कार्रवाई के लिए फैसला लेना हैं।

साथ ही अशोक खेमका ने अपनी बात के लिए कवि दिनकर की पंक्तियों का सहारा लिया है  उन्होंने कहा, 'जब नाश मनुज पर छाता है, पहले विवेक मर जाता है।' उनके इस ट्वीट को इंटरनेट मीडिया पर काफी बार री-ट्वीट किया गया।

अशोक खेमका के ट्वीट को एफआइआर प्रकरण से जोड़कर देखा जा रहा है। खेमका के विरुद्ध एफआइआर में आरोप है कि उन्होंने वेयर हाउसिंग कारपोरेशन के एमडी पद पर रहते हुए गलत भर्तियां की, जबकि खेमका इससे इन्कार करते हैं। वर्मा द्वारा कराई गई एफआइआर के बाद अशोक खेमका की ओर से संजीव वर्मा के विरुद्ध पंचकूला थाने में ही उत्पीड़न व मानहानि के आरोप में एफआइआर दर्ज कराई गई है। यह  एफआईआर करने के लिए हरियाणा गृहमंत्री अनिल विज खुद अशोक खेमका के साथ गए थे।