हरियाणा में हजारों आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं और सहायिकाओं के पद खाली, महिला एवं बाल विकास मंत्री ने दी जानकारी

Sahab Ram
2 Min Read

Yuva Haryana: हरियाणा विधानसभा में गुरुवार को महिला एवं बाल विकास मंत्री कमलेश ढांडा ने बताया कि प्रदेश में आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं और सहायिकाओं के हजारों पद खाली पड़े हुए हैं।

झज्जर की विधायक गीता भुक्कल द्वारा उठाए गए सवाल के जवाब में मंत्री ने बताया कि वर्ष 2012-13 की योजना के तहत प्रदेश में 25,962 आंगनवाड़ी केंद्र और 512 मिनी आंगनवाड़ी केंद्र संचालित हैं।

उन्होंने बताया कि आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं के 25,962 स्वीकृत पदों के मुकाबले 23,874 पद भरे हुए हैं, जबकि 2,088 पद रिक्त हैं। इसी प्रकार, आंगनवाड़ी सहायिकाओं के 25,450 स्वीकृत पदों में से 21,644 पद भरे हुए हैं और 3,986 पद रिक्त हैं।

मंत्री ने कहा कि सरकार इन रिक्त पदों को जल्द से जल्द भरने के लिए प्रयास कर रही है। उन्होंने बताया कि भर्ती प्रक्रिया शुरू कर दी गई है और जल्द ही परीक्षा आयोजित की जाएगी।

खाली पदों का बच्चों पर पड़ता है असर:

आंगनवाड़ी कार्यकर्ता और सहायिकाएं बच्चों के स्वास्थ्य, पोषण और शिक्षा के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। इन पदों के खाली होने से बच्चों पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

सरकार से मांग:

विपक्षी दलों ने सरकार से मांग की है कि वह रिक्त पदों को जल्द से जल्द भरने के लिए ठोस कदम उठाए।

Share This Article
Leave a comment