हरियाणा का बेटा करेगा विदेश में जल संकट पर शोध, मिली इतने करोड़ रुपये की स्कॉलरशिप

Sahab Ram
2 Min Read

 

Yuva Haryana: हरियाणा से चरखी दादरी के गांव पिचौपा खुर्द निवासी प्रतीक सांगवान ने जल संकट का आधुनिक तकनीक से दूर करने का संकल्प लिया है।

प्रतीक को उनकी इस नेक पहल के लिए इंग्लैंड की प्रतिष्ठित यूनिवर्सिटी ऑफ यॉर्क में पीएचडी करने का मौका मिला है। यूके सरकार के प्राकृतिक पर्यावरण अनुसंधान परिषद के तरफ से प्रतीक सांगवान को दो करोड़ रुपए की स्कॉलरशिप भी मिली है।

प्रतीक ने अपनी स्कूली शिक्षा सैनिक स्कूल कुंजपुरा से पूरी की है। उन्होंने टाटा सामाजिक विज्ञान संस्थान, मुंबई से जल नीति और शासन में स्नातकोत्तर की उपाधि प्राप्त की है। प्रतीक का शोध का मुख्य उद्देश्य हरियाणा और उत्तरी भारत में जल संकट का समाधान ढूंढना है।

यह शोध दुनिया की सबसे विकसित तकनीकों को स्थानीय हालातों में ढाल कर, किसानों के लिए मुकमल सिंचाई प्रबंधन के तरीके खोजेगी।

प्रतीक कुमार वेल लैबस नाम की संस्था के साथ काम करते हैं, जो प्राकृतिक संसाधन प्रबंधन और कृषि आजीविका में अनुसंधान के लिए समर्पित संगठन है। इससे पहले प्रतीक कुमार ने सिंचाई और जल संसाधन विभाग, हरियाणा के साथ भी काम किया है।

प्रतीक की माता का उनके जीवन में अहम योगदान रहा है। उन्होंने हमेशा प्रतीक को बेहतर शिक्षा मुहैया करवाने में अपना योगदान दिया। प्रतीक की इस उपलब्धि पर उनके परिवार और ग्रामीणों ने खुशी जाहिर की है।

यह शोध दुनिया की सबसे विकसित तकनीकों को स्थानीय हालातों में ढाल कर, किसानों के लिए मुकमल सिंचाई प्रबंधन के तरीके खोजेगी। वर्तमान में प्रतीक कुमार वेल लैबस नाम की संस्था के साथ काम करते हैं, जो प्राकृतिक संसाधन प्रबंधन और कृषि आजीविका में अनुसंधान के लिए समर्पित संगठन है।

इससे पहले प्रतीक कुमार ने सिंचाई और जल संसाधन विभाग, हरियाणा के साथ काम किया है, जहां वह जल संरक्षण कार्यक्रमों को लागू करने में सक्रिय रूप से शामिल रहे। शुरू से ही प्रतीक को बेहतर शिक्षा मुहैया करवाने में उनकी माता का अहम योगदान रहा है।

 

 

Share This Article
Leave a comment