यूनिवर्सल हेल्थ कवर देने वाला हरियाणा देश का प्रथम राज्य : मुख्यमंत्री

Sahab Ram
5 Min Read

Yuva haryana – देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुजरात के राजकोट से वर्चुअल माध्यम से जिला के गांव देवरखाना में नवनिर्मित केंद्रीय योग एवं प्राकृतिक अनुसंधान संस्थान का लोकार्पण किया। प्रदेश के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने देवरखाना में कार्यक्रम की अध्यक्षता की। सांसद डॉ अरविंद शर्मा, राजेश कोटेचा सचिव आयुष मंत्रालय भारत सरकार, पूर्व मंत्री ओ पी धनखड़ प्रमुख रूप से कार्यक्रम में उपस्थित रहे।

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि यूनिवर्सल हेल्थ कवर देने वाला हरियाणा देश का प्रथम राज्य बन गया है। चिरायु आयुष्मान भारत योजना के तहत अंत्योदय परिवार के सदस्य को पांच लाख रुपये तक फ्री इलाज की सुविधा है जबकि तीन लाख रुपये की वार्षिक आय वाले परिवार को मामूली अंशदान , तीन लाख से छह लाख रुपये की आय वाले परिवार को 4000 रुपये और छह लाख से अधिक वार्षिक आय वाले परिवार 5000 रुपये के वार्षिक अंशदान पर चिरायु आयुष्मान भारत योजना का लाभ ले सकते हैं। उन्होंने कहा कि हमने गांव-गांव तक व्यायामशालाएं खुलवाई हैं और वेलनेस सेंटर भी खोले जा रहे हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार के खजाने पर पहला हक गरीब का है। हमारी सरकार ने गरीब कल्याण के लिए अनेक योजनाएं शुरू की हैं । पीपीपी जैसी योजना से पात्र व्यक्ति तक योजनाओं का लाभ पारदर्शी तरीके से पहुंच रहा है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार की ओर से हरियाणा में आयुष चिकित्सा के क्षेत्र में अपनी तरह का यह प्रथम प्रोजेक्ट है। इस संस्थान के लोकार्पण से हरियाणा, दिल्ली राजस्थान सहित अन्य देशवासियों को लाभ मिलेगा।

मुख्यमंत्री मंत्री ने कहा कि भारत की पारंपरिक चिकित्सा पद्धति सिर्फ इलाज तक सीमित नहीं रही है, बल्कि वह लाइफ की एक होलिस्टिक सांइस है। आज आधुनिक दुनिया की जो लाइफ स्टाइल है जिसमें हम रोज नई-नई बीमारियां देख रहे हैं । उसमें हमारी प्राचीन एवं प्रामाणिक चिकित्सा पद्धति का ज्ञान बहुत ही महत्वपूर्ण है।

मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि दूसरी चिकित्सा पद्धतियां मनुष्य को स्वस्थ करती हैं जबकि योग एवं आयुर्वेद पद्धति मनुष्य को स्वस्थ और निरोग रखती है। आयुर्वेद दुनिया की प्राचीन एवं प्रमाणिक चिकित्सा पद्धति है । आज का दिन हमारे लिए सुनहरा अवसर है जब देश के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी अपने कर कमलों से आयुष से जुड़े बड़े संस्थान का लोकार्पण कर रहे हैं । यह संस्थान आयुर्वेद के क्षेत्र में एक नए युग की शुरुआत करेगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हर नागरिक को योग एवं आयुर्वेद से जोड़ने का ऐतिहासिक कार्य किया है। विश्व योग दिवस मनाने से भारतीय योग पद्धति को वैश्विक पहचान मिली है।

पूर्व मंत्री श्री ओमप्रकाश धनखड़ ने क्षेत्रवासियों को बधाई देते हुए कहा कि आयुष के क्षेत्र में गांव देवरखाना की दुनिया में आज से नई पहचान स्थापित हुई है। अब इस संस्थान में अनुसंधान के माध्यम से जो भी रिसर्च का कार्य होगा , वह मानव कल्याण के लिए होगा और दुनियाभर में कहा जाएगा कि यह देवरखाना संस्थान की उपलब्धि है। उपलब्धियों से पूरे क्षेत्र को गर्व की अनुभूति होगी।

सांसद डॉ अरविंद कुमार शर्मा ने क्षेत्रवासियों को बधाई देते हुए कहा कि चिकित्सा के क्षेत्र में आज नए आयाम स्थापित हुए है। देवरखाना वर्ल्ड मैप पर आ गया है।

राजेश कोटेचा सचिव आयुष मंत्रालय भारत सरकार ने सभी अतिथिगण का स्वागत किया। उल्लेखनीय है कि लगभग 19 एकड़ के एरिया में 64 करोड़ रुपये की लागत से तैयार 200 बैड के इस योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा केंद्र में लाइफ स्टाइल से जुड़े रोगों की रोकथाम और चिकित्सा पर फोकस रहेगा। प्राकृतिक चिकित्सा के इस अस्पताल में ओपीडी ब्लॉक, ट्रीटमेंट ब्लाक, योग एवं खान पान ब्लॉक की सुविधाएं होंगी।

राजकोट से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया व केंद्रीय आयुष मंत्री सर्बानंद सोनोवाल भी वर्चुअल रूप से जुड़े। इस अवसर पर डॉ राघवेंद्र राव, सत्यजीत पॉल सहित अन्य गणमान्य लोग मौजूद रहे।

Share This Article
Leave a comment