भूलकर भी न करे घुटनों के दर्द और सूजन को नजरअंदाज ,नही तो हो सकतें है इस समस्या का शिकार

Sahab Ram
3 Min Read

 

 

Yuva Haryana: आधुनिक जीवनशैली के दबाव में अक्सर लोग अपने स्वास्थ्य को अनदेखा करते हुए दर्द और सूजन जैसी समस्याओं को नजरअंदाज कर देते हैं। इसी में से एक समस्या है “बेकर्स सिस्ट” जिसे अक्सर लोग नजरअंदाज कर देते हैं, परंतु इसका सीधा असर उनके घुटनों पर होता है।बेकर्स सिस्ट एक तरल पदार्थ से भरा थैली होता है जो घुटने के पीछे बनता है। यह आमतौर पर घुटने के जोड़ में अतिरिक्त तरल पदार्थ के कारण होता है। घुटनों में बेकर्स सिस्ट के लक्षणों, कारणों, और उपचार के बारे में जानकारी प्राप्त करें, डॉक्टर से परामर्श करें।

बेकर्स सिस्ट क्या है?

बेकर्स सिस्ट एक नरम गांठ है जो घुटने के पीछे की ओर विकसित होती है। इसे “पोप्लिटीयल सिस्ट” भी कहा जाता है। यह गांठ विभिन्न कारणों से उत्पन्न होती है, जैसे कि अर्थराइटिस या पुरानी चोट की वजह से मांसपेशियों में डैमेज होने पर।

लक्षण:

– घुटनों में अधिक दर्द
– जकड़न और दर्द
– सूजन
– चलने में परेशानी
– उभरी हुई गांठ
– घुटनों के आसपास नीले रंग के चकत्ते
– गांठ के आसपास सूजन
– घुटने को मोड़ने में मुश्किल

बेकर्स सिस्ट का मुख्य कारण अर्थराइटिस और पुरानी चोट हो सकती है। चोट लगने पर घुटने के आसपास की कई मांसपेशियां डैमेज हो जाती हैं, जिससे तरल पदार्थ निकलने लगता है और गांठ बनती है। इसके अलावा, ब्लड क्लॉट होने पर भी घुटने के पिछले हिस्से में गांठ बन सकती है।

अधिकांश मामलों में बेकर्स सिस्ट का इलाज आवश्यक नहीं होता है, क्योंकि यह खुद बारामद हो जाती है। लेकिन, यदि बीमारी लगातार बढ़ती है, तो डॉक्टर गांठ में इंजेक्शन डालकर द्रव बाहर निकालता है, जिससे गांठ सूखकर ठीक हो जाती है। फिजिकल थेरेपी भी इस समस्या का उपचार करने में मददगार हो सकती है। इसके अलावा, डॉक्टर द्वारा सलाहित दवाओं का भी उपयोग किया जा सकता है।

यहां कुछ सुझाव दिए गए हैं जो आपको बेकर्स सिस्ट को रोकने में मदद कर सकते हैं:
1. अपने वजन को नियंत्रण में रखें
2. नियमित रूप से व्यायाम करें
3. घुटने की चोटों से बचें

यदि आपको घुटने के दर्द या सूजन का अनुभव होता है, तो डॉक्टर को दिखाना महत्वपूर्ण है।
जल्दी पता लगाने और उपचार से जटिलताओं को रोकने में मदद मिल सकती है।

 

Share This Article
Leave a comment